Alert: स्मार्टफोन पास रखकर सोना है खतरनाक, घटती है यौन क्षमता, सर्वे रिपोर्ट का दावा



लंदन: स्मार्टफोन के अधिक उपयोग से हमारे मन की स्थिति तो प्रभावित हो ही रही है, अब इसका असर लोगों के यौन जीवन पर पड़ने की बात भी सामने आई है. एक नए अध्ययन की रिपोर्ट में यह बात कही गई है. मोरक्को के कासाब्लांका में शेख खलीफा बेन जायद अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय अस्पताल के यौन स्वास्थ्य विभाग ने खुलासा किया है कि अध्ययन के दायरे में शामिल किए गए लगभग 60 फीसदी लोगों ने स्मार्टफोन के कारण अपने यौन जीवन में आई समस्याएं स्वीकार की हैं.

मोरक्को वल्र्ड न्यूज की गुरुवार को जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, वैज्ञानिक अध्ययन का हवाला देते हुए कहा गया है कि सभी 600 प्रतिभागियों के पास स्मार्टफोन थे और इनमें से 92 फीसदी लोगों ने इसे रात में उपयोग करने की बात स्वीकार की. उनमें से केवल 18 फीसदी लोगों ने अपने फोन को शयनकक्ष में फ्लाइट मोड में रखने की बात कही. अध्ययन में पाया गया कि स्मार्टफोन ने 20 से 45 वर्ष की आयु के वयस्कों को नकारात्मक रूप से प्रभावित किया, जिसमें 60 फीसदी ने कहा कि फोन ने उनकी यौन क्षमता को प्रभावित किया है. रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि लगभग 50 फीसदी लोगों ने यौन जीवन के बेहतर नहीं होने की बात कही, क्योंकि उन्होंने लंबे समय तक स्मार्टफोन का उपयोग किया.

अमेरिका की एक कंपनी श्योरकॉल के एक सर्वेक्षण में बताया गया है कि लगभग तीन-चौथाई लोगों ने माना कि वे रात में अपने बिस्तर पर या उसके बगल में अपने स्मार्टफोन को रखकर सोते हैं. जो लोग अपने पास फोन रखकर सोते हैं, उन्होंने डिवाइस से दूर होने पर डर या चिंता महसूस करने की बात कही. अध्ययन में शामिल प्रतिभागियों में से एक तिहाई ने माना कि इनकमिंग कॉल का जवाब देने की मजबूरी से भी सेक्स में बाधा पहुंचती है.



Source link

सर्दी में रहना है फिट तो करें इन घरेलू चीजों का इस्तेमाल, होंगे चौंकाने वाले फायदे



नई दिल्ली: सर्दी का मौसम शुरू हो गया है. ऐसे में हर कोई चाहता है कि वो कुछ ऐसे उपाय करें कि जिससे वो पूरे सीजन बीमार न पड़े और सर्दी का भरपूर आनंद उठाए. अक्सर देखा गया है कि सर्दियों में लोग कई तरह की बीमारियों से घिर जाते हैं. बच्चों और बुजुर्गों को सर्दी, जुकाम, बुखार और कफ की समस्या ज्यादा होती है. ऐसे में आप खुद को और पूरे परिवार को आयुर्वेद तरीके से फिट रख सकते हैं. आयुर्वेद में कई ऐसे घरेलू नुस्खे हैं जिन्हें अपनाकर आप फिट रह सकते हैं:-

1. अश्वगंधा का करें प्रयोग
आपके शरीर की बहुत सारी परेशानियों को दूर करने के लिए अश्वगंधा एक चमत्कारी औषधि के रुप में काम करती है. यह शरीर को बीमारियों से बचाने के अलावा दिमाग और मन को भी स्वस्थ रखती है. अश्वगंधा आयुर्वेदिक दृष्टिकोण से कफ-वात शामक, बल्यकारक, रसायन, बाजीकरण, नाड़ी-बलकारक, दीपन, पुष्टिकारक और धातुवर्धक होता है. सभी जड़ी बूटियों में से अश्वगंधा सबसे अधिक प्रसिद्ध जड़ी बूटी मानी जाती है. भारत में पांरपरिक रूप से अश्वगंधा का उपयोग आयुर्वेदिक उपचार के लिए किया जाता है. शोधकर्ताओं के अनुसार तनाव और चिंता के लक्षणों को दूर करने के लिए अश्वगंधा सबसे अधिक फायदेमंद साबित होता है. बाजारों में आसानी से अश्वगंधा की दवा, चूर्ण व कैप्सूल आदि मिल जाते हैं.

2. लहसुन का प्रयोग
लहसुन के अंदर एंटीसेप्टिक, एंटी-फंगल और पोषक गुण समाए हैं. आयुर्वेद द्वारा हजारों सालों से लहसुन को प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में उपयोग किया जाता है. यह एक शक्तिशाली प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट है, जो बिना किसी दुष्प्रभाव के शरीर को बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण से बचाता है. यह सर्दी के दौरान होने वाली खांसी, जुकाम और छाती के संक्रमण के खिलाफ एक अच्छी दवा है.

3. अदरक का करें प्रयोग
प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले लाभों से भरा एक घटक, अदरक भी मतली को रोकने में मदद करता है और एक पेट की परेशानी को दूर करता है. अदरक आपके शरीर को गर्म रखने में भी बहुत प्रभावी है. नींबू के साथ एक कप अदरक वाली चाय पीने से शरीर से सर्दी छूमंतर हो जाती है.

4. अम्बा हल्दी की उपयोगी
कच्ची हल्दी के रूप में भी जानी जाती है, यह एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो ज्यादातर मानसून के मौसम में पाई जाती है. यह पेट और पाचन तंत्र के स्वास्थ्य को बनाए रखने में भी मदद करता है. इन सभी जड़ी-बूटियों के अलावा, चाय और टॉनिक के रूप में उपयोग किए जाने वाले आंवला, पवित्र तुलसी और त्रिफला भी प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करते हैं.



Source link

CSR spend by listed companies highest-ever in FY19



The biggest spend (Rs 4,406 crore) was for Schedule VII (II), which involves “promoting education, including special education and employment enhancing vocation skills, especially among children, women, elderly and the differently abled and livelihood enhancement projects”.



Source link

UPTET Admit Card 2019 Out on Official Website updeled.gov.in | Know Here How to Download



UPTET Admit Card 2019: The Uttar Pradesh Basic Education Board ( UPBEB) has released the UPTET Admit card 2019 on the official website updeled.gov.in.

It must be noted that UPTET 2019 exam will be held on December 22, 2019, at over 1900 exam centres across Uttar Pradesh.

The exam will progress in two shifts from 10 AM to 12.30 PM (primary level) and 2.30 PM to 5 PM (upper primary level).

Know here steps to download UPTET 2019 Admit Card:

Step 1: Go on the official website updeled.gov.in.

Step 2: On the homepage, click on the link which says “UPTET registration page”.

Step 3: Now, enter all the details asked including your application number and password.

Step 4: Click on Submit.

Step 5: Your admit card will now be displayed on the screen. Download it and take a print-out of the same for a future reference.

Teacher Eligibility Test is conducted by the UPBEB once in a year for the selection of Primary and Junior Teachers in government schools across Uttar Pradesh. Aspiring candidates can appear for any of the Paper or can take both the exams.



Source link

All You Need to Know About Juvenile Diabetes, Condition That Claimed Life of Moushumi Chatterjee’s Daughter



Popular actor Moushumi Chatterjee’s daughter, Payal passed away today. The 45-year-old was in a state of coma since 2018. She was suffering from juvenile diabetes sinch a very young age. The condition is also called type 1 diabetes or insulin-dependent diabetes. It is a chronic condition that occurs when the pancreas in your body stops producing insulin hormone. This chemical is essential for the sugar to be used as energy in the body. Insulin allows sugar to enter your body cells.

Juvenile diabetes is characterized by symptoms like increased thirst, fatigue, blurred vision, frequent urination, etc. Juvenile diabetes can be caused due to genetics or exposure to viruses. Certain factors like being young, living in South, family history, etc. can potentially increase your likelihood of suffering from juvenile diabetes. If not managed on time, the condition can lead to complications like damage to the eyes, kidneys, nerves, blood vessels, etc.

Certain lifestyle changes can help you in the careful management of juvenile diabetes. Read on to know about them.

  • Do not forget to take your insulin injection. As your body is no longer making the hormone, you need to take it manually every day as per your doctor’s prescription. Taking insulin as a pill is not at all a good idea as your digestive juices in the stomach can break it making the pill non-effective.
  • Eat mindfully as not doing so can put you at risk of dying. You need to always keep the calorie count of the food in mind and eat accordingly. Also, stay away from food that is already associated with suddenly spiking up the blood sugar level. Some of them include sweets, junk food like burgers, pizza, etc. You should focus on having fresh green vegetables and fruits.
  • Exercise is one of the most important parts of type 1 diabetes management. People with diabetes are at risk of developing various other diseases like heart problems. Exercise can help you keep them at bay. But before hitting a gym, you must consult a doctor and ask about how much workout is good for your health and what else you need to do along with exercising.



Source link

Infosys denies knowledge of any fresh complaint



Infosys pointed out that it is not uncommon for plaintiffs’ lawyers to issue press releases or other media communications asking potential plaintiffs to contact them in order to apply for lead plaintiff status in an existing lawsuit.



Source link

Exercise Won’t Help Most Women Suffering From Migraine



Despite doctors recommending regular aerobic exercise to prevent migraine, physical exercise can actually be a trigger of migraine attacks for most women because of “anxiety sensitivity” in them, find researchers.

“Anxiety sensitivity” refers to one’s fear of experiencing anxiety arousal due to harmful physical, cognitive and socially-observable consequences, may be related to physical activity (PA) avoidance in migraine patients.

Migraine affects around 10-15 per cent of the population around the globe, and among its most common diagnosis criteria include a throbbing, unilateral head pain, hypersensitivity to lights, sounds, odour, and aggravation by activity.

Although regular aerobic exercise has been strongly recommended by clinicians as an adjuvant option for migraine prevention, for up to one-third of patients, physical exercise can be a trigger of migraine attacks, thus, it can instead be avoided as a strategy to manage migraine, said researchers.

The study, published in the journal Cephalalgia and highlighted an overlooked relationship between migraine and exercise, was led by Samantha G Farris from Rutgers, Department of Psychology, the State University of New Jersey.

The researchers assessed 100 women with probable migraine, who filled an online survey covering anxiety sensitivity scores, intentional avoidance of moderate and vigorous physical activity (PA) in the past month, as well as the self-rated perception that exercise would trigger a migraine attack and worse migraine symptoms.

The results showed that increased anxiety sensitivity scores associated with PA avoidance of both moderate and vigorous intensities.

One-point increase in the anxiety sensitivity scale resulted in up to 5 per cent increase in the odds for avoiding PA.

Migraine is a highly prevalent and disabling neurological disorder, in which regular PA is part of current non-pharmacological treatment recommendations.

The authors wrote that “patients with migraine and elevated anxiety sensitivity could benefit from tailored, multi-component intervention”.



Source link