Is Your Kid Learning to Swim This Summer Vacation? Read These Tips



Swimming is a life skill, an excellent way to stay fit and more importantly a super fun activity. A number of kids are enrolled for swimming classes in summer. While this is a very good summer activity, it could turn out to be dangerous. This is why certain safety guidelines need to be followed not just by the swimming pool authorities, the lifeguard, the learner but also by you as a parent. Here are some tips you need to keep in mind:

Hygiene inside the swimming pool is of extreme importance. The swimming pool needs to be clean and should have regular cleaning sessions. Not just the pool, even the area around it needs to be kept clean. The locker rooms shouldn’t be dirty and the water in the showers should be clear and flowing too.

When enrolling your kid in a swimming pool, find out about how many guards are there per session. Make sure that the lifeguard to kids ratio is reasonable. The lifeguards need to be trained and alert and should be enough in number to cater to all the learners in the entire pool.

Make sure that the lifebuoys and other floats are good quality. If your kid is a learner, the floats need to be tied properly to ensure they float.

Do not let your kids (or anyone else) enter the swimming pool if they have any sort of infection. Skin rashes and problems related to ENT, and even eyes are of major concern when enrolling for swimming. Consult a doctor before your kid joins swimming classes.

What your kid eats and drinks before and after swimming is important. Swimming is a tiring activity and like the case with any other exercise, swimming also needs you to drink water frequently. Let your kid carry a water bottle with him so that he can drink enough water. This will keep muscle cramps away. Let her eat an hour earlier so she has enough energy for swimming.



Source link

Healthy Diet: Try This Trick to Make Your Kid Love Healthy Food



There are many vegetables and other food items that kids are averse to. But, as parents, you know that it is absolutely necessary for them to eat these highly nutritious foods for their proper physical and mental growth. From threats to pleading, many parents try a variety of methods to try and get their children to eat everything. One trick you could try to make your kids eat and love healthy food is by communicating about the benefits of eating healthy food to your kids. If you think this won’t work, look at the study published in the Journal of Nutrition Education and Behaviour. The study says that if parents talk about eating healthy food to kids, they are more likely to eat the food. What exactly do you tell them if you want them to eat healthy? The study gives examples of that too: urge them by saying things like ‘eat your lentils if you want to grow bigger and run faster.’ This works in two ways: it accurately tells them what they will achieve by eating healthy and, it also gives your children realistic goals that they will be keen to achieve. The idea essentially is to develop positive reinforcement of nutritious food giving your strength to grow taller, jump higher and become stronger.

Apart from communicating about the numerous benefits of eating healthy food, what you could also try doing is to incorporate certain healthy foods into their meals so that they develop the taste for those foods.

Always set an example. It really doesn’t make sense when you dig into a bag of chips and expect your kid to eat an apple for snack time! Eat healthy so your child can eat healthy.

Your kids will eat healthy only when they find it easily at home. Keep healthy snacks within their reach. Keep fruits or vegetables or nuts where they can reach.

 

 



Source link

New Treatment For Children With Type-2 Diabetes



A new treatment for Type-2 diabetes in children has shown promise in a clinical trial, according to a study.
The drug, liraglutide, in combination with an existing medication, metformin, showed a robust effect in treating children with Type-2 diabetes, the results showed.

“This adult diabetes medication was very effective in our trial of youth with Type-2 diabetes and was well tolerated,” said study co-author Jane Lynch, Professor at University of Texas Health Science Center at San Antonio in the US.

Currently only two drugs, metformin and insulin, are approved for the treatment of Type 2 diabetes in children in the US.

“We urgently need other options for medical treatment of Type-2 diabetes in our youth under age 18. If approved, this drug would be a fantastic new option to complement oral metformin therapy as an alternative to insulin for our youth and adolescents with Type 2 diabetes,” said Lynch.

The study compared outcomes of 66 children who received liraglutide shots plus metformin pills for 26 weeks with the outcomes of 68 other children who received metformin and a placebo. Children between ages 10 and 17 were eligible for the study.

The research, published in The New England Journal of Medicine, was a randomised, parallel-group, placebo-controlled trial.

The average age of the participant children was 14.6 years, and more than 60 per cent were female.



Source link

Heavy, Tall Children More Likely to Develop Kidney Cancer



Heavier and taller children are more likely to develop kidney cancer as adults than their average-sized peers, warn researchers. “We know that overweight in adulthood is associated with an increased risk of renal cell carcinoma (RCC). We also know that cancers take many years to develop. We therefore had a theory that already being overweight in childhood would increase the risk of RCC later in life,” said lead author Britt Wang Jensen from Bispebjerg and Frederiksberg Hospital in Denmark.

RCC is the most common form of kidney cancer found in adults. For the study, the researchers included 301,422 individuals from the Copenhagen School Health Records Register born from 1930 to1985.

The weights and heights were measured at the ages seven to 13 years, and body mass index (BMI) was used to categorise the children as normal-weight or overweight, suggested by the International Obesity Task Force.

During a median of 32 years of observation, 1,010 individuals (680 men) were diagnosed with RCC.

Among men and women, significant and positive associations were observed between childhood BMI and height, respectively, and RCC risk.

Children who grew from average to above average height had an eight per cent increased risk of RCC, the study said.

“Our findings that heavier and taller children have increased risks of RCC open the door to new ways to explore the causes of kidney cancer,” Jensen said.

The study was presented at the European Congress on Obesity being held in Glasgow, Scotland from April 28 to May 1.



Source link

No Screen Time For 1-Year-Olds + Other Guidelines by WHO



The World Health Organisation has come up with some new guidelines for physical activity, sedentary behaviour and sleep for children under 5 years of age. WHO has warned that the increasing use of gadgets and screen time by kids is damaging our children’s health. Taking note of the fact that early childhood is very crucial for development, WHO Director-General Dr Tedros Adhanom Ghebreyesus urges everyone to do ‘what is best for health right from the beginning of people’s lives’ to ensure overall good health. Bad lifestyle habits during childhood are likely to have a devastating effect later in life and lead to diseases like obesity, diabetes, heart diseases, stroke, among others.

In the report published as a news release on its website, WHO states that ‘ Children under five must spend less time sitting watching screens, or restrained in prams and seats, get better quality sleep and have more time for active play if they are to grow up healthy.’ Cutting down screen time will help ensure more physical activity, less sedentary time and hence, better quality sleep in young children which could positively impact their physical, mental health and wellbeing, and help prevent childhood obesity and diseases later in life, according to Dr Fiona Bull, programme manager for surveillance and population-based prevention of noncommunicable diseases, WHO.

Various studies have established that excessive screen time is disastrous for our children’s health. A recent study published in The Lancet Child & Adolescent Health said that more than two hours of screen time every day can lead to poor cognition and slow thinking in kids. Some other studies have said that watching screens can lead to vision problems like dry eye syndrome and poor eyesight.

Did you know that a whopping 80 per cent of adolescents are not as physically active as they should be? WHO suggests some non-screen-based activities including reading, storytelling, singing and puzzles, as important for child development.
Some of the important recommendations as suggested by WHO are:

For children who are less than 1 year old: Being physically active several times a day, not allowing screen time, not restraining for more than 1 hour at a time.

For children who are 1-2 years of age: Spending at least 180 minutes doing physical activities and not allowing screen time.

For children who are 3 to 4 years of age: Physical activity for at least 180 minutes, sedentary screen time for only 1 hour or less



Source link

4 Ways to Sneak Healthy Food Into Recipes For Your Picky Eater



A research published in the Journal of Pediatrics says constipation and picky eating in kids are strongly linked to each other. In the study, it was observed that children who suffer from chronic constipation are often extra sensitive when it comes to eating foods of different textures, tastes and odours. They also have ‘heightened sensory sensitivity,’ according to the research. Since constipation and picky eating are both grave concerns when it comes to children’s health, it is important for parents and doctors to tackle these urgently in order to avoid more severe health complications later.

Here are some tips you can follow to help your kids eat healthy and prevent problems like constipation:
Make them eat all vegetables: Now, we know how difficult that is. In fact, this is the very thing that’s tricky to achieve for most parents. But the best part about our Indian recipes is that a lot of ingredients can be stealthily put in without the kids realizing it. Mashed vegetables like green leafy vegetables are best incorporated into dals, curries and soups. You can easily mask the taste and smell but adjusting other ingredients like herbs and spices. Similarly, pav bhajis, pastas and even pulaos and fried rice are dishes that you can try sneaking vegetables in. You could also make sauces, ketchup and dips with different mashed and pureed vegetables. Make pancakes with moong beans. Just don’t go overboard with the vegetables you’re trying to hide. Or you can get caught!

Fruits can be disguised as desserts: If your kids refuse to eat certain fruits, you can blend a variety of fruits into milkshakes or smoothies. Garnish and top with ingredients like chocolate chips or chopped almonds and dry fruits. You could also make fruit popsicles by pureeing the fruits and freezing them in popsicle mould along with sweeteners like honey or maple syrup.

Give the butter a twist: Peanut butter and almond butter have become increasingly common these days. While they are a good way to ensure your kids eats nuts, it is not a good idea to but store-bought ones. These can contain artificial preservatives and sweeteners. All you need to do is whisk a handful of almonds or peanuts with a bit of salt in a grinder till you get a smooth consistency. Spread these on a piece of toast and you get a healthy snack.

Make nutritious chips: Does your kid love potato chips? Who doesn’t! You can make delicious chips with other vegetables too. Just thinly slice vegetables like sweet potatoes and beetroots and bake them in an oven with a bit of seasoning.



Source link

भारत में इस अभियान के चलते हजारों बच्‍चों की जान बचाने में मिली मदद, रिसर्च का दावा



नई दिल्ली: भारत के खसरा टीकाकरण अभियान से 2010 से 2013 के बीच हजारों बच्चों की जान बचाने में मदद मिली है. एक नये अध्ययन में यह बात सामने आई. ईलाइफ पत्रिका में प्रकाशित परिणामों के अनुसार खसरा टीकाकरण अभियान से 2010 से 2013 के दौरान भारत में 41 हजार से 56 हजार तक बच्चों को बचाने में मदद मिली.

Health Alert: नेपाल में सताने लगा कुष्ठ रोग के फिर से सिर उठाने का डर

कनाडा स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के प्रभात झा समेत अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि जिन राज्यों में अभियान चलाया गया उनमें गैर-अभियान वाले राज्यों की तुलना में एक महीने से 56 महीने तक के बच्चों की मृत्युदर में कमी आई. अध्ययन के परिणामों में कहा गया है कि भारत में खसरे से शिशुओं की मौत के मामलों में कमी लाई जा सकती है, हालांकि इसके लिए भारत के बच्चों में टीकाकरण की दर बढ़ाने पर सतत ध्यान देना होगा और निगरानी रखनी होगी.

Health: जल्द इलाज से ठीक हो सकता है कुष्ठ रोग, देर करने पर शारीरिक अपंगता का खतरा

पहले कम थी बच्‍चों में टीकाकरण की दर
अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार सरकार ने 2010 में सामूहिक टीकाकरण अभियान के साथ की दूसरी खुराक को लागू किया था. यह अभियान उन जिलों में शुरू किया गया जहां बच्चों में टीकाकरण की दर कम थी. सेंट माइकल्स हॉस्पिटल के एपिडेमियोलॉजिस्ट बेंजामिन वांग ने कहा कि हम जानते हैं कि भारत में खसरे से शिशु मृत्यु के मामलों में कमी आई है, लेकिन इस अध्ययन से पहले हमें यह नहीं पता था कि क्या राष्ट्रीय खसरा अभियान से शिशु मृत्युदर में कमी आई है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Health Alert: नेपाल में सताने लगा कुष्ठ रोग के फिर से सिर उठाने का डर



काठमांडू: नेपाल में स्वास्थ्य अधिकारियों को कुष्ठ रोग के फिर से सिर उठाने का डर सताने लगा है. 2018 में इसकी प्रसार दर 0.94 पहुंच जाने के बाद अधिकारी चिंतित हैं. काठमांडू पोस्ट की गुरुवार की रिपोर्ट के मुताबिक, 2009 में हिमालय राष्ट्र द्वारा बीमारी को जड़ से खत्म करने की घोषणा के बाद नेपाल को कुष्ठ मुक्त देश का दर्जा दिया गया था. हालांकि अगर प्रसार दर कुल आबादी के एक फीसदी तक पहुंच जाती है तो देश से यह दर्जा छिन सकता है.

Health: जल्द इलाज से ठीक हो सकता है कुष्ठ रोग, देर करने पर शारीरिक अपंगता का खतरा

विशेषज्ञ को डर है कि इससे नेपाल में इस बीमारी के पुनरुत्थान का पता चलता है. एक अधिकारी ने कहा कि इसकी दर बढ़ सकती है क्योंकि वर्तमान आकंड़े प्रारंभिक डेटा से लिए गए हैं. समाचार रिपोर्ट के मुताबिक, स्वास्थ्य सेवा विभाग के महामारी विज्ञान एवं रोग नियंत्रण प्रभाग (ईपीसीडी) के कुष्ठ रोग नियंत्रण एवं अक्षमता (एलसीडी) खंड ने कहा कि प्रसार दर 2017 में 0.92 फीसदी और 2016 में 0.89 फीसदी रही थी. चिकित्सक और एलसीडी खंड के प्रमुख रबिंद्र बसकोटा ने कहा कि अगर देश यह दर्जा खोता है तो उसके लिए यह एक तगड़ा झटका होगा.

दुनिया में हर साल कुष्ठ रोग के दो लाख मामले आते हैं सामने, इनमें से आधे से अधिक भारत में: WHO

उन्होंने कहा कि कुष्ठ रोग की ऊष्मायन अवधि एक से 20 वर्ष तक भिन्न-भिन्न होती है और इसके अधिक से अधिक रोगियों का इलाज कर इसके प्रसार को रोकने में मदद मिल सकती है. उनके मुताबिक, अगर यह चलन जारी रहा तो मात्र दो वर्षो में प्रसार दर एक फीसदी पर पहुंच जाएगी.

कुष्‍ठ रोग के ये हैं लक्षण
छाती पर बड़ा, अजीब से रंग का घाव या निशान.
त्वचा पर हल्के रंग के धब्बे, जो चपटे और फीके रंग के दिखते हैं, इस स्थान पर त्वचा सुन्न पड़ जाती है.
त्वचा में खुश्की, अकड़न और मोटी त्वचा.
पैरों के तलुओं पर ऐसा घाव जिसमें दर्द न हो.
चेहरे या कान के आस-पास गांठें या सूजन, जिसमें दर्द न हो.
भौहें या पलकें गिर जाना.
त्वचा के प्रभावित हिस्सों का सुन्न पड़ जाना.
मांसपेशियों में कमजोरी या पैरालिसिस (खासतौर पर हाथों और पैरों में).
आंखों की समस्याएं, जिनसे अंधापन तक हो सकता है.
पैरालिसिस या हाथों और पैरों का अपंग होना.
पैरों की अंगुलियों का छोटा होना.
नाक का आकार बिगड़ना.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

बच्चों में कुष्ठ रोग की संभावना बड़ों से ज्‍यादा, जानिए इसके लक्षण व जरूरी उपाय



नई दिल्ली: चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि बच्चों में कुष्ठ रोग की संभावना व्यस्कों से अधिक होती है, इसलिए बच्चों को हमेशा इस रोग से संक्रमित व्यक्ति से दूर रखा जाना चाहिए. कुष्ठ रोग सबसे पुरानी बीमारियों में से एक है. इसे हेन्संस रोग भी कहा जाता है और यह धीमी गति से बढ़ने वाले एक जीवाणु मायकोबैक्टीरिया लेप्रे (एम. लेप्रे) के कारण होता है. जीवाणु के संपर्क में आने के बाद इसके लक्षण दिखने में 3-5 साल लग जाते हैं. इस अवधि को इन्क्यूबेशन पीरियड (उष्मायन अवधि) कहा जाता है.

नोएडा स्थित जेपी हॉस्पिटल की डर्मेटोलॉजिस्ट कंसल्टेंट डॉ. साक्षी श्रीवास्तव कहती हैं कि कुष्ठ रोग को ‘उपेक्षित रोग’ भी कहा जाता है. इसके लक्षणों के कारण यह सबसे घातक रोगों में से एक है. इसमें शरीर के अंगों का आकार बिगड़ने लगता है. उन्होंने कहा कि रोग के लक्षणों का असर त्वचा, तंत्रिकाओं, म्यूकस मेम्ब्रेन (शरीर के खुले हिस्सों में मौजूद नम और गीले हिस्से) पर पता चलता है.

Health: जल्द इलाज से ठीक हो सकता है कुष्ठ रोग, देर करने पर शारीरिक अपंगता का खतरा

ये हैं लक्षण

  • छाती पर बड़ा, अजीब से रंग का घाव या निशान.
  • त्वचा पर हल्के रंग के धब्बे, जो चपटे और फीके रंग के दिखते हैं, इस स्थान पर त्वचा सुन्न पड़ जाती है.
  • त्वचा में खुश्की, अकड़न और मोटी त्वचा.
  • पैरों के तलुओं पर ऐसा घाव जिसमें दर्द न हो.
  • चेहरे या कान के आस-पास गांठें या सूजन, जिसमें दर्द न हो.
  • भौहें या पलकें गिर जाना.
  • त्वचा के प्रभावित हिस्सों का सुन्न पड़ जाना.
  • मांसपेशियों में कमजोरी या पैरालिसिस (खासतौर पर हाथों और पैरों में).
  • आंखों की समस्याएं, जिनसे अंधापन तक हो सकता है.
  • पैरालिसिस या हाथों और पैरों का अपंग होना.
  • पैरों की अंगुलियों का छोटा होना.
  • नाक का आकार बिगड़ना.

गैस चैंबर बने महानगरों में खुद को रखना है Healthy तो ये करें उपाय

उन्होंने बताया कि कुष्ठ रोग का पूरी तरह से इलाज संभव है. दुनिया भर में 95 फीसदी आबादी की बीमारियों से लड़ने की ताकत इतनी मजबूत होती है कि लम्बे समय तक इसके संपर्क में रहने के बाद भी वे रोग का शिकर नहीं होते. कुष्ठ रोग से जुड़े कलंक और गलत अवधारणाओं के चलते कई बार लोग इसके लक्षणों को छुपाते हैं, जिसके कारण मरीज की हालत बिगड़ जाती है. इससे समुदाय में रोग फैलने का खतरा भी बढ़ता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन कुष्ठ रोग के लिए मुफ्त इलाज उपलब्ध कराता है. उन्होंने बताया कि कुष्ठ रोग के मामले में निम्न एहतियात जरूरी है:-

1- कुष्ठ रोग को फैलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है कि जल्द से जल्द इसका निदान कर इलाज किया जाए.
2- लम्बे समय तक अनुपचारित, संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में न रहें.
3- लक्षणों पर निगरानी रखना और गंभीर मामलों पर ध्यान देना.
4- चोट से बचें और घाव को साफ रखें.
5- बच्चों में कुष्ठ रोग की संभावना व्यस्कों से अधिक होती है इसलिए बच्चों को हमेशा संक्रमित व्यक्ति से दूर रखें.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

बच्चों में AIDS को रोकने संबंधी कार्यक्रम वहां नहीं हो रहे, जहां होने चाहिए, जानिए ये जरूरी बातें



नई दिल्ली: चिकित्सकों का कहना है कि एड्स से संबंधित मौतों व नये संक्रमणों में कमी जरूर आ रही है लेकिन इसे खत्म करने की प्रक्रिया तेज नहीं हो पा रही है. चिकित्सकों के मुताबिक, वायरस का इलाज करने और इसे बड़े बच्चों में फैलने से रोकने संबंधी कार्यक्रम वहां नहीं हैं, जहां उन्हें होना चाहिए.

हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा कि एचआईवी वायरस रिजर्वोयर सेल्स में छिपा रहता है. इस कारण से, एचआईवी संक्रमण, जो एंटीरेट्रोवाइरल दवाओं (एआरटी) के साथ में है, एआरटी बंद होते ही फिर से सक्रिय हो जाता है. इन छिपी हुई रिजर्वोयर सेल्स को खत्म करना इसलिए आवश्यक है ताकि उपचार हो सके. उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक आज बेहतर तरीके जानते हैं, उनके पास ज्ञान और तकनीक दोनों हैं, जिससे इस रोग के इलाज खोजने की उम्मीदें जागती हैं. एचआईवी या एड्स विभिन्न जन जागरूकता अभियानों, अत्याधुनिक चिकित्सा हस्तक्षेप और विकसित तकनीक की उपलब्धता के बावजूद भारतीय आबादी को प्रभावित कर रहा है.

गर्भस्थ शिशु को सेरेब्रल पैल्सी का शिकार बनने से बचाएं, जानिए इसका कारण और कैसे रखें ख्‍याल

दुनिया में एचआईवी के 5 लाख मामले जानकारी में नहीं
डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा कि इसका एक बड़ा हिस्सा उस सामाजिक कलंक के कारण भी है जो हमारे समाज ने इस बीमारी से जोड़ रखा है. यह भी एक कारण है कि लोग नियमित जांच कराने से बचते हैं. इस तथ्य के साथ विभिन्न रोग निवारण उपायों के बारे में आम जनता को शिक्षित करने की तत्काल आवश्यकता है, ताकि एचआईवी से पीड़ित लोग सामान्य जीवन जी सकें. यूनिसेफ की रिपोर्ट में 2030 तक 14 लाख एचआईवी संक्रमित बच्चों की संख्या में कमी के वैश्विक लक्ष्य का हवाला दिया गया है. हालांकि, 19 लाख की अनुमानित संख्या से पता चलता है कि दुनिया में लगभग 5,00,000 मामलों की जानकारी नहीं है.

बच्चों में कुष्ठ रोग की संभावना बड़ों से ज्‍यादा, जानिए इसके लक्षण व जरूरी उपाय

गर्भवती महिलाएं जरूर कराएं एचआईवी परीक्षण
डॉ. अग्रवाल ने कहा कि एचआईवी किसी संक्रमित महिला से उसके बच्चे तक गर्भावस्था और प्रसव के दौरान फैल सकता है. यह स्तनपान के माध्यम से एक मां से उसके बच्चे में भी जा सकता है. सभी गर्भवती माताओं को एचआईवी परीक्षण करवाना चाहिए. यौन पार्टनर या नशा करने वाले पार्टनर के मामले में, गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान मां से शिशु तक इस रोग को फैलने से रोकने के लिए जल्द से जल्द एंटीरेटरोवाइरल थेरेपी शुरू की जानी चाहिए.

Health: जल्द इलाज से ठीक हो सकता है कुष्ठ रोग, देर करने पर शारीरिक अपंगता का खतरा

एचआईवी को लेकर इन बातों पर करें अमल
डॉ. अग्रवाल ने कुछ अन्य तथ्यों पर प्रकाश डाला जो कि निम्नलिखित हैं.
* सुरक्षित सेक्स के लिए एबीसी : एब्सटेन यानी संयम, बी फेथफुल यानी अपने साथी के प्रति वफादार रहें और कंडोम का प्रयोग करें.
* शराब पीने या ड्रग्स लेने से जांच प्रभावित हो सकती है. यहां तक कि जो लोग एड्स के जोखिमों को समझते हैं और सुरक्षित सेक्स का महत्व भी जानते हैं, वे भी नशे की हालत में लापरवाह हो सकते हैं.
* एसटीआई वाले लोगों को शीघ्र उपचार की तलाश करनी चाहिए और संभोग से बचना चाहिए या सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करना चाहिए.
* प्रयुक्त संक्रमित रेजर ब्लेड, चाकू या उपकरण जो त्वचा को काटते या छेदते हैं, उनमें एचआईवी फैलने का कुछ जोखिम भी होता है.
* एचआईवी पॉजिटिव लोगों को खुद चाहे पता न लगे, फिर भी वे अनजाने में वायरस को दूसरों तक पहुंचा सकते हैं.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link