CSIR NET Result 2019 to be Declared Today @ csirnet.nta.nic.in- Complete Details Here



CSIR UGC NET Result 2019: The National Testing Agency (NTA) is expected to announce the result of the  Council of Scientific and Industrial Research (CSIR) UGC National Eligibility Test (NET) examinations on Tuesday, January 14. Candidates, who had given the examination can check their scores at the official website csirnet.nta.nic.in. once the results are declared. The result was earlier scheduled to be announced on December 31.

Notably, 2,82,116 candidates had applied for the recruitment examination which took place on December 15, 2019. It was conducted for chemical sciences, earth atmospheric ocean and planetary science, life science, mathematical sciences and physical sciences.  Those who will pass the CSIR NET will be eligible for research under junior research fellowship.

Follow these steps to check your results: 

Step 1: Go to the official website- csirnet.nta.nic.in

Step 2: Click on the ‘download result’ link

Step 3: Submit your registration number, roll number

Step 4: Results will appear on the screen

Step 5: Download it, and take a print out for further reference.

Earlier on Monday, the NTA had published the final answer key of the CSIR-UGC National Eligibility Test (NET) 2019 on the official website csirnet.nta.nic.in.

Steps to download the CSIR-UGC NET 2019 Answer Key:

Step 1: Visit the official website csirnet.nta.nic.in

Step 2: On the homepage, under ‘Current Events,’ click on ‘Joint CSIR-UGC NET Answer Key on which result will be compiled’

Step 3: The answer key will be displayed on the screen next

Step 4: Download it and save a copy for any future use

You can also click here to access the final answer key directly.

 



Source link

NTA CSIR-UGC NET Results 2019 Expected to be Declared on December 31 at csirnet.nta.nic.in



NTA CSIR-UGC NET results 2019: The National Testing Agency (NTA) is expected to announce the result of the  Council of Scientific and Industrial Research (CSIR) UGC National Eligibility Test (NET) examinations on the last day of this year, i.e, December 31, Tuesday.

The candidates can check their scores at the official website csirnet.nta.nic.in. once the results are declared.

“The results of CSIR-UGC NET examination is expected to be released on Tuesday, December 31, 2019. The results will be available at the website- csirnet.nta.nic.in,” the official notification mentioned.

Follow These Step to Check NTA CSIR-UGC NET results 2019

Step 1: Go to the official website- csirnet.nta.nic.in

Step 2: Click on the ‘download result’ link

Step 3: Submit your registration number, roll number

Step 4: Results will appear on the screen

Step 5: Download it, and take a print out for further reference.

Notably, 2,82,116 candidates had applied for the recruitment examination which took place on December 15, 2019. It was conducted for chemical sciences, earth atmospheric ocean and planetary science, life science, mathematical sciences and physical sciences.  Those who will pass the CSIR NET will be eligible for research under junior research fellowship.In Assam and Meghalaya, the examination was postponed following the deadly protests over the Citizenship Amendment Act.



Source link

रिसर्च में दावा, डायबिटीज के मरीजों के लिए बेहद लाभकारी है ये आयुर्वेदिक दवा…


नई दिल्ली: वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) द्वारा व‍िकस‍ित दवा बीजीआर-34, डायबिटीज के मरीजों के लिए बेहद लाभदायक है. ये दवा नियमित तौर पर खाने से डायबिटीज के मरीजों में हार्ट अटैक के खतरे को पचास फीसदी तक कम कर देती है. इस दवा के करीब 50 फीसदी सेवनकर्ताओं में ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन का स्तर नियंत्रित पाया गया. शोध में यह बात सामने आई है.

जर्नल ऑफ टड्रिशनल एंड कंप्लीमेंट्री मेडिसिन के ताजा अंक में इससे जुड़े शोध को प्रकाशित किया गया है. रिपोर्ट के अनुसार, बीजीआर-34 मधुमेह रोगियों के लिए कारगर दवा है. मौजूदा एलोपैथी दवाएं शुगर का स्तर तो कम करती हैं लेकिन इससे जुड़ी अन्य दिक्कतों को ठीक नहीं कर पाती हैं. बीजीआर में इन दिक्कतों को भी दूर करने के गुण देखे गए हैं.

जर्नल के अनुसार भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के दिशा-निर्देशों के तहत एक अस्पताल में 64 मरीजों पर चार महीने तक इस दवा का परीक्षण किया गया. इस दौरान दो तरह के नतीजे सामने आए. 80 फीसदी तक मरीजों के शुगर के लेवल में कमी दर्ज की गई. दवा शुरू करने से पहले शुगर का औसत स्तर 196 (खाली पेट) था, जो चार महीने बाद घटकर 129 एमजीडीएल रह गया. जबकि भोजन के बाद यह स्तर 276 से घटकर 191 एमजीडीएल रह गया. ये नतीजे अच्छे हैं लेकिन इस प्रकार के नतीजे कई एलोपैथिक दवाएं भी देती हैं. सीएसआईआर ने बीजीआर-34 के निर्माण की अनुमति एमिल फार्मास्युटिकल को दे रखी है.

रिपोर्ट के अनुसार, दूसरा उत्साहजनक नतीजा ग्लाइकोसिलेटेड हिमोग्लोबिन (एचबीए1सी) को लेकर है. 30-50 फीसदी मरीजों में इस दवा के सेवन से ग्लाइकोसिलेटेड हिमोग्लोबिन नियंत्रित हो गया जबकि बाकी मरीजों में भी इसके स्तर में दस फीसदी तक की कमी आई. दरअसल, ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन की रक्त में अधिकता रक्त कोशिकाओं से जुड़ी बीमारियों का कारण बनती है. जिसमें हार्ट अटैक होना और दौरे पड़ना प्रमुख है. मधुमेह रोगियों में ये दोनों ही मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं के भीतर होता है. इसका कार्य ऑक्‍सीजन का संचार करना होता है. लेकिन जब हीमोग्लोबिन में शुगर की मात्रा घुल जाती है तो हीमोग्लोबिन का कार्य बाधित हो जाता है, इसे ही ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन कहते हैं. इसका प्रभाव कई महीनों तक रहता है. किन्तु बीजीआर-34 से यह स्तर नियंत्रित हो रहा है.
(एजेंसी से इनपुट)



Source link