Diabetes Mellitus: Lower Blood Sugar With These Low-Carb Food Swaps



Type 2 diabetes is a condition in which our body fails to respond to a protein that regulates blood glucose levels, called insulin. This is why there is a need to regulate and lower the increased blood sugar levels in our body. Those with diabetes mellitus have to be particularly careful about the amount of carbohydrates they consume. This is because our body breaks down carbohydrates into glucose. This spikes our blood glucose level. Diabetics are asked to stay away from high carb foods for this reason. In general, a high carb diet is bad not just for those with diabetes. It can also lead to weight gain and obesity, high blood pressure and cardiovascular diseases. It’s not difficult to switch to a low carb diet. All you need to do is make smart food swaps.

Swap white rice with brown rice or grated broccoli:  White rice can spike your blood glucose level. Diabetics are usually asked to avoid white rice or eat with caution. Brown rice has a low glycemic index and is therefore recommended for those with type 2 diabetes. You could also use broccoli rice as well which is quite the trend these days. All you need to do is blend broccoli in a blender till you get granules and then steam to cook it. Season it with salt. You could try doing the same with cauliflower.

Swap white bread with vegetables like sweet potato: When it comes to toasts or sandwiches, you can easily replace white bread with more nutritious foods like vegetables. White bread is devoid of nutrients and can cause insulin resistance and worsen type 2 diabetes symptoms. Just roast and season sweet potato slices and put your fillings in between these two slices.

Swap maida-based pizza based with cauliflower pizza base: Consumption of maida or white refined flour for diabetics is a big NO-NO because it can cause insulin resistance. To make a cauliflower pizza base, simple whisk cauliflower in a blender with salt, pepper, oregano, cheese and eggs. Spread the mixture on a baking tray in a pizza shape and bake. Add pizza toppings and bake further to make your pizza.

Swap regular wafers with vegetable chips: Deep fried potato chips are bad news for your blood sugar and waistline. Instead, thinly slice vegetables like beetroot and carrots. Season them salt and pepper. Brush them with olive oil and bake them. These vegetable chips will be crunchy, tasty and good for your health.



Source link

Beat diabetes with walnuts and these 5 other nuts



Are you a diabetic looking for healthy snack options? Ditch your regular high carb food and have walnuts instead. Consuming walnuts regularly has been shown to help manage and treat diabetes by positively impacting metabolic syndrome according to a study published in the journal Nutrition Research and Practice. Walnuts can also increase your good cholesterol and decrease fasting glucose level.

Nuts are loaded with powerful nutrients that are extremely beneficial for everybody. When it comes to diabetes, too, nuts exert positive effects. In fact, studies have proven that nuts can actually significantly cut the risk of developing diabetes. Nuts contain healthy fats, and, when consumed in moderation, can actually make you feel full and lower your appetite. This will help you manage weight.  Eating just a handful of nuts daily has been shown to reduce the risk of cardiovascular disease, a common cause of death, heart attacks, strokes and disability among people with Type-2 diabetes. From controlling blood sugar to blood pressure to increasing metabolism and fighting inflammation, nuts are superfoods for diabetics.

Don’t just stick to walnuts; here are some other nuts you should have to beat diabetes mellitus:

Cashew nuts: Many avoid having kaju or cashew nuts because of the misconception that it can be bad for your waistline and your heart. But the truth is that the humble cashew with monounsaturated fat can decrease the systolic blood pressure and increase the good cholesterol in your body. Just don’t have more than 10-15 in a day.

Almonds: The health benefits of almonds are many. Full of omega 3 fatty acids, fibre and protein, almonds reduce bad cholesterol and improve insulin sensitivity which make them excellent for diabetics.

Pistachios: Pistachios have been shown to reduce Body Mass Index in those with prediabetes or those in the intial stages of diabetes by suppressing hunger. They do not increase the weight and are hence considered apt for controlling and managing diabetes.

Peanuts: Nuts can be expensive. But if you are looking at a cheaper but equally healthy nut to control diabetes, opt for peanuts. Rich in protein and fibre, peanuts have a low glycemic index. Peanuts have the ability to reduce fasting blood glucose and postprandial glucose. Stick to a handful of peanuts every day.

Macadamia nuts: One of the most highly recommended healthy food options for diabetes is macadamia nuts. Macadamia nuts have healthy carbs and fibre that can help beat diabetes.

 



Source link

Health Tips: डायबिटीज के रोगी सुबह करें ये काम, कंट्रोल में होगी बीमारी, रहेंगे Healthy



नई दिल्‍ली: मधुमेह यानी डायबिटीज भारत में तेजी से बढ़ने वाली एक गंभीर बीमारी है, इंडियन डायबिटीज फेडरेशन (आईडीएफ) के आंकड़ों की माने तो मौजूदा समय भारत में 7.2 करोड़ लोग इस बीमारी की चपेट में हैं. जो कि धीरे-धीरे और लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है. इसका पता मरीज को धीरे-धीरे लगता है. इसके चलते ही इस बीमारी को धीमी मौत भी कहा गया है.

High Blood Pressure के रोगियों को कसरत से ज्यादा पसंद है एक कप चाय, कारण जानें

यह बीमारी अगर आपको हो गई तो यह जीवन भर पीछा नहीं छोड़ती. इसे बेहतर लाइफ स्‍टाइल, खानपान और व्‍यायाम के जरिए ही कंट्रोल किया जा सकता है. डॉक्टर भी डायबिटीज के मरीजों के उचित देखभाल की सलाह देते हैं. डायबिटीज को लेकर शोधकर्ताओं का मानना है कि विटामिन सी डायबिटीज से पीड़ित लोगों का बढ़ा हुआ ब्लड ग्लूकोज लेवल पूरे दिन कम रखने में सहायक हो सकता है. डायबिटिज, ओबेसिटी एडं मेटाबोलिज्म नाम से प्रकाशित जर्नल में छपे एक शोध में यह भी पाया गया है कि विटामिन सी टाइप 2 डायबिटीज से जूझ रहे लोगों का रक्तचाप कम करने में मददगार हो सकता है.

भारत में तेजी से रोगियों को मार रही ये बीमारी, जानिए कारण व बचाव के उपाय

लाखों बीमारों की सेहत सुधारने में मिल सकती है मदद
ऑस्ट्रेलिया की डियाकिन विश्वविद्यालय के ग्लेन वेडले के अनुसार, इस शोध के परिणामों से लाखों बीमारों की सेहत सुधारने में मदद मिल सकती है. वेडले ने कहा, हमने पाया कि जिन लोगों पर शोध किया गया था उनमें भोजन करने के बाद शर्करा के स्तर में 36 फीसदी की कमी आयी. उन्होंने कहा कि हाइपरग्लूकेमिया से पीड़ित लोगों के लिए यह बहुत अच्छी खबर है. विशेषज्ञों के मुताबिक, पुरुष को रोजाना 90 मिलीग्राम जबकि महिलाओं को 75 मिलीग्राम विटामिन सी की जरूरत होती है. इसके लिए आपको नीचे दी गई चीजों का सेवन करना चाहिए.

वैज्ञानिकों ने बनाए ऐसे पेसमेकर, जो दिल की धड़कनों से लेंगे ऊर्जा और चलेंगे हमेशा-हमेशा

इसमें मिलता है भरपूर विटामिन सी
एक बड़े संतरे में 82 मिलीग्राम विटामिन सी.
आधा कप कटी हुई लाल मिर्च में 95 मिलीग्राम विटामिन सी.
एक कप केल में 80 मिलीग्राम विटामिन सी.
आधा कप पके ब्रसल्स स्प्राउट्स में 48 मिलीग्राम विटामिन सी.
आधा कप स्ट्राबेरी में 42 मिलीग्राम विटामिन सी.
आधा ग्रेपफ्रूट में 43 मिलीग्राम विटामिन सी.
एक अमरूद में 125 मिलीग्राम विटामिन सी.
एक कीवी में 64 मिलीग्राम विटामिन सी.
आधा कप कटी हुई ग्रीन पिपर में 60 मिलीग्राम विटामिन सी.
आधा कप पके हुए ब्रोकली में 51 मिलीग्राम विटामिन सी.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Tobacco Plants Can be Used to Produce an Anti-Inflammatory Protein For Treating Diabetes, Arthritis



Tobacco plants can be used to produce an anti-inflammatory protein that can have powerful therapeutic potential for treating conditions like Type-2 diabetes, stroke, dementia, and arthritis, more effectively and at an affordable price, researchers say.

A team from the University of Western Ontario and Lawson Health Research Institute in Canada used tobacco plants to produce large quantities of a human protein called Interleukin 37, or IL-37 — naturally produced in the human kidney in very small quantities.

“This protein is a master regulator of inflammation in the body, and has been shown in pre-clinical models to be effective in treating a whole host of inflammatory and autoimmune diseases,” said Tony Jevnikar, Professor at Western.

“The human kidney produces IL-37, but not nearly enough to get us out of an inflammation injury.”

While IL-37 has shown promise in animal models, its use clinically has been limited because of the inability to produce it in large quantities at a price that is feasible clinically. Currently, it can be made in very small amounts using the bacteria E. coli, but at a very high cost.

That’s where the tobacco plants come in and pave the way to provide treatments that are effective and affordable, according to the study published in the journal Plant Cell Reports.

“The plants offer the potential to produce pharmaceuticals in a way that is much more affordable than current methods,” said Shengwu Ma, a scientist at Lawson.

“Tobacco is high-yield, and we can temporarily transform the plant so that we can begin making the protein of interest within two weeks.”

The team is now investigating the effect that IL-37 has for preventing organ injury during transplantation. When an organ is removed for transplantation and then transferred to a recipient, inflammation occurs when the blood flow is restored to the organ.



Source link

Night Shift में लगातार काम करने से DNA संरचना को खतरा, हो सकती है ये बीमारियां



हांगकांग: क्या आप ज्यादातर रात्रि पाली में काम करते हैं? पर्याप्त नींद की कमी और रात्रि में जागने से मानव डीएनए की संरचना में क्षति हो सकती है और इससे कई तरह की बीमारियां घर कर सकती हैं. रात्रि पाली में काम करने से कैंसर, मधुमेह, हृदय रोग, श्वास संबंधी एवं तंत्रिका तंत्र संबंधी बीमारियां हो सकती हैं.

Health Alerts: गर्भधारण से बढ़ता है दिल की बीमारी का खतरा, Research का दावा

एनस्थेशिया एकेडमिक जर्नल में प्रकाशित शोध के मुताबिक, रात्रि में काम करने वालों में डीएनए मरम्मत करने वाला जीन अपनी गति से काम नहीं कर पाता और नींद की ज्यादा कमी होने पर यह स्थिति और बिगड़ती जाती है. शोध में पाया गया है कि जो व्यक्ति रात भर काम करते हैं, उनमें डीएनए क्षय का खतरा रात में काम नहीं करने वालों के मुकाबले 30 फीसदी अधिक होता है. वैसे लोग जो रात में काम करते हैं और पर्याप्त नींद नहीं ले पाते हैं, उनमें डीएनए क्षय का खतरा और 25 फीसदी बढ़ जाता है.

गैस चैंबर बने महानगरों में खुद को रखना है Healthy तो ये करें उपाय

डीएनए खतरा का मतलब डीएनए की मूलभूत संरचना में बदलाव
यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग के रिसर्च एसोसिएट एस. डब्ल्यू. चोई ने कहा कि डीएनए खतरा का मतलब डीएनए की मूलभूत संरचना में बदलाव है. यानी डीएनए जब दोबारा बनता है, उसमें मरम्मत नहीं हो पाता है और यह क्षतिग्रस्त डीएनए होता है. चोई ने कहा कि जब डीएनए में मरम्मत नहीं हो पाता तो यह खतरनाक स्थिति है और इससे कोशिका की क्षति हो जाती है. मरम्मत नहीं होने की स्थिति में डीएनए की एंड-ज्वाइनिंग नहीं पाती, जिससे ट्यूमर बनने का खतरा रहता है.

‘मंकी फीवर’ है खतरनाक, इस राज्‍य में नौ लोगों की मौत, जानें इसके लक्षण?

नींद की कमी है कारण
शोध में 28 से 33 साल के स्वस्थ डॉक्टरों का रक्त परीक्षण किया गया, जिन्होंने तीन दिन तक पर्याप्त नींद ली थी. इसके बाद उन डॉक्टरों का रक्त परीक्षण किया गया, जिन्होंने रात्रि में काम किया था, जिन्हें नींद की कमी थी. चोई ने कहा कि शोध में यह पाया गया है कि बाधित नींद डीएनए क्षय से जुड़ा हुआ है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

आशावादी रहने से महिलाओं में कम हो सकता है मधुमेह का खतरा, Study में किया ये दावा



वाशिंगटन: एक अध्ययन में यह दावा किया गया है कि आशावादी महिलाओं में टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित होने का खतरा कम हो सकता है. रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं पर किये गये एक अध्ययन में दावा किया गया है कि आशावाद जैसे व्यक्तित्व के सकरात्मक लक्षणों को रखने वाली महिलाओं में टाइप 2 मधुमेह के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है.

उत्‍तराखंड में भी स्वाइन फ्लू का अटैक, जानिए इसके लक्षण व बचाव का तरीका

महिला स्वास्थ्य पहल (डब्ल्यूएचआई) नामक एक दीर्घकालिक अध्ययन के आंकड़ों पर यह शोध आधारित है. पत्रिका ‘मेनोपॉज’ में प्रकाशित इस अध्ययन में 1,39,924 महिलाओं को शामिल किया गया और इन महिलाओं को मधुमेह की बीमारी नहीं थी लेकिन 14 वर्षों में टाइप 2 मधुमेह के 19,240 मामलों की पहचान की गई. अध्ययन के अनुसार ज्यादा आशावादी रहने वाली महिलाओं की तुलना कम आशावादी रहने वाली महिलाओं से की गई.

Tips: अक्‍सर चीजें रखकर भूल जाते हैं तो आपको है ये बीमारी, करें यह काम

ऐसी महिलाओं में मधुमेह का जोखिम ज्‍यादा
नार्थ अमेरिकी मनोपॉज सोसाइटी (एनएएमएस) के कार्यकारी निदेशक जोअन पिंकर्टन ने कहा कि व्यक्तित्व के लक्षण पूरे जीवनकाल स्थिर रहते हैं, इसलिए उन महिलाओं में मधुमेह का जोखिम अधिक पाया गया जो कम आशावादी हैं और नकारात्मक सोच रखती है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Optimism Likely to Reduce Diabetes Risk in Postmenopausal Women, Says Study



While it is known that a positive personality can help one succeed in life, a new study suggests that traits such as optimism may actually help reduce the risk of developing Type-2 diabetes.

The study examined whether personality traits, including optimism, negativity, and hostility, were associated with the risk of developing Type-2 diabetes in postmenopausal women.

Depression and cynicism were found to be associated with an increased risk of diabetes.

In addition, high levels of hostility were associated with high fasting glucose levels, insulin resistance, and prevalent diabetes.

For the study, published in the journal Menopause, researchers followed 139,924 postmenopausal women amongst which 19,240 cases of Type-2 diabetes were identified.

Compared with women who were least optimistic, women who were the most optimistic had a 12 per cent lower risk of incident diabetes, results showed.

In addition, the association of hostility with the risk of diabetes was stronger in women who were not obese compared with women who were.

Hence, low optimism, high negativity and hostility were associated with increased risk of incident diabetes in postmenopausal women, independent of major health behaviours and depressive symptoms, the study concluded.

“In addition to using personality traits to help us identify women at higher risk for developing diabetes, more individualised education and treatment strategies should also be used,” said Joann Pinkerton, executive director at The North American Menopause Society.

The prevalence of diabetes increases with age, with a 25.2 per cent prevalence in those aged 65 years or older.



Source link

भारत में तंदूरी चिकन, मटन के बजाए 60 फीसदी लोगों को पसंद है शाकाहारी खाना



नई दिल्ली: देश में मधुमेह जैसे रोगों से पीड़ित लोगों की तादाद बढ़ने के बीच एक अच्छी खबर है कि ज्यादातर लोग अब स्वास्थ्यवर्धक भोजन पसंद करने लगे हैं. एक सर्वेक्षण के अनुसार, 63 फीसदी भारतीय गोश्त की जगह वनस्पति से प्राप्त भोजन पसंद करते हैं. मतलब मांसाहारी के बजाए शाकाहारी लोगों की तादाद ज्यादा हो गई है.

Health Alert: पेट की अतिरिक्त चर्बी Brain को पहुंचा सकती है नुकसान

ग्लोबल रिसर्च कंपनी इप्सोस की रिपोर्ट ‘फूड हैबिट्स ऑफ इंडियंस: इप्सोस अध्ययन’ में पाया गया कि भारतीय जानकारी के आधार पर पसंद करने लगे हैं. अब वे एक परंपरागत आदत में नहीं, बल्कि प्रयोग में विश्वास करने लगे हैं. सर्वेक्षणकर्ताओं ने कहा कि हमें मालूम है कि भारत के लोगों को भोजन से लगाव होता है और तंदूरी चिकन, मटन, फिश और विविध प्रकार के मासांहारों को देखकर उनके लार टपकने लगता है. लेकिन रायशुमारी में 63 फीसदी भारतीयों का कहना है कि वे गोश्त के बदले वनस्पति से प्राप्त भोजन खाना पसंद करते हैं.

Health Alert: जानें क्या है ‘विंटर ब्लू’, सर्दियों में क्यों बढ़ते हैं लोगों में Depression के लक्षण

24 अगस्त से लेकर सात सितंबर तक 29 देशों में करवाया गया सर्वे
रिपोर्ट के अनुसार, 57 फीसदी लोगों ने बताया कि वे जैविक खाद्य पदार्थ ग्रहण् करते हैं. रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में 57 फीसदी लोगों का दावा है कि वे जैविक खाद्य पदार्थ ग्रहण करते हैं, जबकि विकसित देशों में जैविक खाद्य पदार्थ खाने वाले लोग कम हैं, जिनमें जापान में 13 फीसदी और 12 फीसदी ब्रिटिश हैं. सर्वेक्षण पिछले साल 24 अगस्त से लेकर सात सितंबर तक 29 देशों में करवाया गया था. सर्वेक्षण में भारत में 1,000 नमूने लिए गए थे.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Alert: डायबिटीज से आंखों में 'Diabetic retinopathy' बीमारी का खतरा, जानिए लक्षण व बचाव



नई दिल्ली: मधुमेह से हृदय और लीवर को कितना नुकसान पहुंचता है इससे तो सभी भलीभांति वाकिफ हैं लेकिन बहुत कम लोगों को इस बात की जानकारी है कि मधुमेह से हमारी आंखों को भी भारी क्षति पहुंचती है. मधुमेह की वजह से आंखों में ‘डायबिटिक रेटिनोपैथी’ बीमारी हो सकती है, जिससे अगर आंखों की दृष्टि चली जाए तो उसे वापस नहीं लाया जा सकता है.

Health Alert: जानें क्या है ‘विंटर ब्लू’, सर्दियों में क्यों बढ़ते हैं लोगों में Depression के लक्षण

सेव साइट सेंटर के निदेशक व नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. राजीव जैन ने कहा कि डायबिटिक रेटिनोपैथी की शुरुआत होने पर इसका पता नहीं चलता. इसके शुरुआती चरण के दौरान रेटिना में छोटी रक्त वाहिकाएं कमजोर हो जाती हैं और यह छोटे बुल्गेस को विकसित करती है. इस बीमारी में रक्त में शुगर की मात्रा अधिक हो जाती है, जो आंखों सहित पूरे शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है. उन्होंने कहा कि रक्त में मधुमेह अधिक बढ़ने से रेटिना में रक्त वाहिकाओं को नुकसान होता है जिसके कारण डायबिटिक रेटिनोपैथी हो सकती है. इस बीमारी से रेटिना के ऊतकों में सूजन हो सकती है, जिससे दृष्टि धुंधली होती है. जिस व्यक्ति को लंबे समय से मधुमेह होता है, उसको डायबिटिक रेटिनोपैथी होने की संभावना उतनी ही अधिक हो जाती है. इसका इलाज नहीं कराने पर यह अंधेपन का कारण बन सकती है.

Health Tips: ठंड के मौसम में इन उपायों को अपनाकर रहें स्वस्थ

ये हैं लक्षण व बचाव के तरीके
डॉ. राजीव जैन ने डायबिटिक रेटिनोपैथी के लक्षणों और बचाव के बारे में बताया कि आंखों का बार-बार संक्रमित होना, चश्मे के नंबर में बार-बार परिवर्तन होना, सुबह उठने के बाद कम दिखाई देना, सिर में हमेशा दर्द रहना, आंखों की रोशनी अचानक कम हो जाना, रंग को पहचानने में कठिनाई इसके प्रमुख लक्षण हैं. उन्होंने कहा कि इस बीमारी से बचाव के लिए मधुमेह का पता लगते ही ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ने से रोकें. इसके लिए डॉक्टर के बताए नुस्खों का पालन करें और दवाएं लेते रहें. इसके अलावा डायबिटीज होने पर आपको साल में एक-दो बार आंखों की जांच करानी चाहिए जिससे आंखों पर अगर किसी तरह का प्रभाव शुरू हो जाए, तो उसका समय पर इलाज किया जा सके.

Tips: हेल्दी लाइफ का खजाना है पनीर, जानें 5 फायदे

लेजर से किया जाता है डायबिटिक रेटिनोपैथी का इलाज
डायबिटिक रेटिनोपैथी के इलाज पर डॉ. राजीव ने कहा कि समस्या से निजात पाने के लिए लेजर से उपचार किया जाता है. इस उपचार विधि के दौरान रेटिना के पीछे की नई रक्त वाहिकाओं के विकास के इलाज के लिए और आंखों में रक्त और द्रव के रिसाव को रोकने के लिए किया जाता है. उन्होंने कहा कि इलाज के दूसरे तरीके में आंखों में इंफ्लामेशन को कम करने या आंखों के पीछे नई रक्त वाहिकाओं को बनने से रोकने के लिए आंखों में ल्यूसेंटिस, अवास्टिन जैसे इंजेक्शन लगाए जाते हैं. इंजेक्शन आम तौर पर एक महीने में एक बार लगाया जाता है और जब दृष्टि स्थिर हो जाती है, तो इंजेक्शन लगाना बंद कर दिया जाता है. लेजर और इंजेक्शन प्रक्रिया से इलाज संभव नहीं होता है तो व्रिटेक्टॅमी नामक सर्जरी से इलाज किया जाता है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

स्‍वीडन के रिसर्चर ने बनाई ऐसी डिवाइस, बिना दर्द के कर सकते हैं डायबिटीज की जांच



लंदन: स्वीडन के शोधार्थियों ने मधुमेह पीड़ित लोगों के लिए एक माइक्रोनीडल पैच डिजाइन किया है, जिससे आप दर्द महसूस किए बिना पूरे दिन अपने ग्लूकोज स्तर की जांच कर पाएंगे. लगातार जांच रक्त में शर्करा की मात्रा को कम करने का सुरक्षित और असरदार तरीका है. यह नया शोध उपयोगकर्ताओं को दिनभर अपने ग्लूकोज स्तर की पूरी जानकारी और गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया से बचने में मदद करेगा.

Winter Tips: सर्दियों में हार्ट अटैक की वजह क्‍या है? डॉक्‍टर्स की एडवाइजरी पढ़ें, जानें कैसे रखें दिल का ख्‍याल…

लेकिन इस समय उपयोग किया जाने वाला ग्लूकोज मॉनिटरिंग सिस्टम (सीजीएमएस) असहज करनेवाला है, क्योंकि इसमें त्वचा में न्यूनतम 7 मिमी की सुई डालने की जरूरत होती है. अपने आकार के कारण यह केवल वसा ऊतक का ही माप लेती हैं जो सबसे आदर्श स्थान नहीं है. स्वीडन में केटीएच रॉयल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं द्वारा विकसित किया गया नया उपकरण इससे 50 गुना छोटा है. वहीं, इस उपकरण को बाजू में लगाने पर पैच के संयोजन और अत्यंत छोटे तीन इलेक्ट्रोड एंजाइमैटिक सेंसर रक्त शर्करा के स्तर को सही और गतिशील रूप से ट्रैक करने में सक्षम पाए गए.

ALERT: महिलाएं सेहत को लेकर रहें एलर्ट, इस बदलाव से होते हैं दो तरह के Cancer

बिना दर्द पहुंचाए सेवा देने पर केंद्रित है शोध
संस्थान में इस अध्ययन के शोथार्थी फेडेरिको राइब ने बताया कि हमारा शोध उपयोगकर्ताओं को बिना दर्द पहुंचाए सेवा देने पर केंद्रित है. हम सीधे त्वचा में मौजूद बहुत छोटे रक्त वाहिकाओं के एक समूह को मापते हैं और इसमें कोई तंत्रिका रिसेप्टर्स नहीं हैं. (एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link