Annual Meet Connections of Indian Institute of Mass Communication Alumni Association Held in Raipur, Jaipur



New Delhi: The annual meet connections of Chhattisgarh and Rajasthan chapters Indian Institute of Mass Communication Alumni Association (IIMCAA) were organised in Raipur and Jaipur.

The Jaipur chapter annual meet of Indian Institute of Mass Communication Alumni Association (IIMCAA) meet was addressed by chapter president Amrita Maurya. In the meet, the new executive committee of the Rajasthan chapter was formed in which Amrita Maurya was re-elected as the president. In the newly-formed executive, Sachin Saini was elected as the vice-president, Madhav Sharma as general secretary, Ankit Dhaka as secretary and Gunjan Jain as the treasurer.

Notably, IIMCAA, which is the largest mass media training institute in the country, is organising alumni meet for its students in 21 different cities in India and abroad.

The Raipur meet was chaired by vice-chancellor Santosh Kumar. Mrigendra Pandey managed the stage. IIMCAA president Prasad Sanyal while addressing the meet, highlighted the importance of networking among the former students of the institute. He also discussed in details about new initiatives – IIMCAA Medical Assistance Fund and IIMCAA Scholarships.

Madhya Pradesh chapter president Anil Saumitra hailed the decision of expansion of the institute and said that representatives of one state visiting other are an important step.

Giving details about the year-to-year expansion of the institute, organisation secretary Ritesh Varma said that this year, connections will be organised in at least 21 cities.

The meetings were addressed by senior journalist Prakash Chandra Hota, professor Rajendra Mohanti, Vindo Kumar, Dadan Vishwakarma, Jasim-ul-Haq among others.

On the occasion, institute president Sanyal discussed a plan of the assistance of up to Rs 20,000 to the IIMCAA Medical Assistance Fund. IIMCAA professor Anand Pradhan said that the institute is preparing a report on female journalists working in the media industry so as to know the details related to their working environment. In the event, several Divyang kids from the NGA ‘Angle At Work’ also took part.

After the inaugural event on February 17th, at the IIMC Delhi headquarters, Connections 2019 spanning across 20 cities in and outside India, will put curtains down on April 13th in Dhaka at the Bangladesh Chapter meeting of the association.



Source link

Azim Premji loosens purse strings further for philanthropy



With the latest action, the value of the philanthropic endowment corpus contributed by Premji is about $21 billion, which includes 67 per cent of the economic ownership of Wipro.



Source link

Winter rain won't cause large-scale damage to most rabi crops



For potato farmers in the north and wheat growers in the eastern parts — particularly in Jharkhand, Bihar, and Odisha — the recent rains could in fact be beneficial.



Source link

Rajasthan: Women Pursuing Undergraduate, PG Courses to Get Free Education From 2019-20 Session



Jaipur: Rajasthan’s interim budget comes as good news for nearly 2.3 lakh female students of the state. From 2019-20, girls enrolled in Arts, Commerce and Science streams for undergraduate or post-graduate courses will get free education.

The Congress government presented the vote-on-account of Rs 86,906 crore for the first four months of the current fiscal on Wednesday. As per the budget estimates, the total expenditure of the state stands at Rs 2,31,654 crore.

For the first time in the state, old farmers will be given pension. Women farmers above 55 years of age and male farmers above 58 will be eligible for the pension. Those below 75 years of age would get Rs 750 while those above 75 would be getting Rs 1,000.

The government has also announced 600 new drug centres under the Free Medicine Scheme. New medicines will be included in Mukyamantri Free Medicine Scheme.

Also, state-run drug testing laboratories at Jaipur, Udaipur, Jodhpur and Bikaner will be made functional.

Around 1.6 lakh youths would benefit from the Mukyamantri Yuva Sambal Yojna. The government has increased the allowances for the unemployed youth by up to five times. It comes into effect from February 2019, and beneficiaries will start getting allowances from March. Unemployed, eligible women will get Rs 3,500 and male would get a monthly allowance of Rs 3,000.

Reservation in government services for differently-abled people has also been increased from 3 per cent to 4 per cent.

The government has also put aside Rs 16 crore to reopen Haridev Joshi Journalism University and Dr BR Ambedkar Law University. And there is a new industries policy on the anvil. Rajasthan Export Promotion Council is to be set up in the state to enhance exports.



Source link

देश में स्वाइन फ्लू से इस साल अब तक 250 लोगों की मौत, कैसे करें बचाव



नई दिल्ली: देश में स्वाइन फ्लू इस साल अब तक 250 से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है. ऐसी खबर है कि बृहस्पतिवार तक तीन दिन में 30 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश भर में राजस्थान में सबसे ज्यादा 96 मौते हुई हैं और बीते गुरुवार तक 2,706 मामले सामने आए हैं. इसके बाद गुजरात में 54 मौतें हुईं और 1,187 मामले सामने आए हैं.

पंजाब में इस बीमारी की वजह से 30 लोगों की मौत हो चुकी है और 301 मामले सामने आ चुके हैं. महाराष्ट्र में अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है और 197 मामले सामने आए हैं. दिल्ली 28 जनवरी तक स्वाइन फ्लू के मामले में 28 जनवरी तक राजस्थान और गुजरात के बाद तीसरे स्थान पर था. लेकिन अब स्वाइन फ्लू के 1,406 मामलों के साथ यह दूसरे स्थान पर है. दिल्ली में अब तक छह लोगों की मौत हुई है. हरियाणा और तेलंगाना में क्रमश: स्वाइन फ्लू के 589 और 390 मामले दर्ज किए गए हैं और इस बीमारी की वजह से दोनों राज्यों में दो लोगों की मौत हुई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बीमारी की निगरानी बढ़ाने को कहा
स्वाइन फ्लू के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों से इस बीमारी के शुरुआती लक्षणों पर निगरानी बढ़ाने को कहा है और इस बीमारी से निपटने के लिए अस्पतालों में बेड रिजर्व रखने को कहा गया है. इंफ्लुएंजा के टीकाकरण के लिए दिशानिर्देश और ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की ओर से प्रदान किए गए टीकों के उत्पानदकर्ताओं का विवरण सभी राज्यों के साथ साझा किया गया है.

World Cancer Day 2019: कैंसर के खिलाफ जंग जरूरी, हर साल मरते हैं 80 लाख से अधिक लोग

स्वाइन फ्लू है क्‍या, कैसे करें बचाव
स्वाइन फ्लू एक श्वसन संक्रमण है जो इंफ्लूएंजा नामक वायरस की वजह से होता है. स्वाइन फ्लू फैलने का कारण एच1एन1 वायरस होता है जो पक्षियों और मनुष्यों से फैलने वाले फ्लू की तरह होता है. स्वाइन फ्लू के लक्षण कुछ अलग नहीं होते हैं. इसके लक्षण सामान्य फ्लू जैसे सिरदर्द, शरीर में दर्द, खांसी-जुकाम, थकावट, बुखार और गले में दर्द की तरह होते हैं. इससे खुद को बचाने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी जरुरी होती हैं. इन सावधानियों को अपनाकर आप खुद को स्वाइन फ्लू से ग्रसित होने से बचा सकते हैं. तो आइए आपको इन सावधानियों के बारे में बताते हैं.

भीड़ वाली जगह में जाने से बचें
भीड़ वाली जगह पर जाने से स्वाइन फ्लू से ग्रसित होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है. इसलिए भीड़ वाली जगह पर जाने से बचें और अगर आप जा भी रहे हैं तो मास्क पहनकर रहें.

अल्सर, पेट के कैंसर का पता लगाएगी नई टैबलेट, खाने के बाद नरम गुब्बारे के आकार में बदलेगी ये

खांसते समय मुंह पर हाथ रखें
खांसने से दूसरे व्यक्ति में कीटाणु बहुत जल्दी ट्रांसफर हो जाते हैं. स्वाइन फ्लू बहुत जल्दी फैलने वाला फ्लू है. इसलिए अगर कोई खांस रहा हो तो या आप खांस रहे हैं तो अपने मुंह पर हाथ रख लें ताकि यह इंफेक्शन किसी और को ना फैले.

मास्क पहनकर रहें
बाहर जाने पर मास्क पहनकर रखें. क्योंकि धूल-मिट्टी के साथ आप स्वाइन फ्लू के वायरस के संपर्क में आ सकते हैं. इसके लिए अच्छे मास्क का इस्तेमाल करें. अगर आपके पास मास्क नहीं है तो रुमाल को 2-3 तय करके मुंह और नाक को ढकें. इससे वायरस आपको प्रभावित नहीं करेगा.

कैंसर पीड़ितों के लिए चेन्नई में शुरू हुआ प्रोटोन थेरेपी सेंटर

हाथ साफ रखें
स्वाइन फ्लू के इंफेक्शन से बचने के लिए किसी भी चीज को छूने के बाद हैंड सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें या हाथों को धो लें. इससे आपके हाथ साफ रहेंगे और वायरस के संपर्क में आने से बचेगें.

कैंसर से लड़ने में कारगर साबित हो सकती है नई स्टेम सेल तकनीक, रिसर्च का दावा

डॉक्टर से परामर्श लें
अगर आपको स्वाइन फ्लू के लक्षण दिख रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें. स्वाइन फ्लू से ग्रसित होने पर तेज बुखार, शरीर में दर्द जैसे लक्षण दिखते हैं.अगर आपको ऐसे कोई भी लक्षण दिखें तो डॉक्टर से परामर्श करें.

क्या हैं इसके लक्षण
फ्लू के गंभीर होने पर व्यक्ति को लगातार खांसी और सांस लेने में तकलीफ से फेफड़े प्रभावित होते हैं. जिससे रोगी निमोनिया का शिकार हो जाता है और उसका ब्लड प्रेशर कम होने लगता है. लेकिन यदि कफ, सांस लेने में दिक्कत व बुखार तीनों एक साथ हों तो तुरंत विशेषज्ञ को दिखाएं.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Is the much-touted Bhavantar project a disaster?



Allegations abound that traders milked the scheme to artificially keep prices down, while a significant amount of growers didn’t even register owing to multiple difficulties in registration and were deprived of the payout.



Source link

साल 2019 में दबे पांव आ रही है यह बीमारी, राजस्थान में मरीजों की तादाद सबसे ज्यादा



नई दिल्ली: पिछले कुछ बरसों से स्वाइन फ्लू की दस्तक स्वास्थ्य सेवाओं को चौकन्ना कर देती है. पिछले दो बरस में तीन हजार से ज्यादा लोगों की जान लेने वाली यह खतरनाक बीमारी इस साल भी दबे पांव चली आ रही है और जनवरी के पहले तीन हफ्ते में देशभर में इसके 2777 मामले सामने आए हैं और कुल 85 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें अकेले राजस्थान में मरीजों की तादाद 1233 है और मरने वालों का आंकड़ा 49 तक पहुंच चुका है.

उत्‍तराखंड में भी स्वाइन फ्लू का अटैक, जानिए इसके लक्षण व बचाव का तरीका

स्वाइन फ्लू का प्रकोप राजधानी दिल्ली सहित देश के तमाम हिस्सों में बढ़ रहा है. दिल्ली में 20 जनवरी तक इसके कुल 229 मामले दर्ज किए गए. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के समेकित रोग निगरानी कार्यक्रम (आईडीएसपी) के आंकड़ों के अनुसार राजस्थान में इसके मरीजों और मरने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है, जबकि उसके बाद पंजाब का स्थान है, जहां 90 लोग इसकी चपेट में आए और नौ की मौत हो गई. रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना में भी बीमारी की आमद दर्ज की गई है.

‘मंकी फीवर’ है खतरनाक, इस राज्‍य में नौ लोगों की मौत, जानें इसके लक्षण?

ऐसे फैलती है यह बीमारी
सुअरों के श्वसन तंत्र से निकले वायरस के कारण होने वाली यह बीमारी बेहद संक्रामक है. हालांकि सामान्य अवस्था में यह बीमारी सुअरों से मनुष्यों में नहीं फैलती, लेकिन सूअर पालने वाले और उनके साथ काम करने वाले मनुष्यों में इसके संक्रमण की आशंका रहती है. इसके अलावा मांसाहार करने वाले लोग अगर संक्रामक मांस को अच्छी तरह पकाए बिना उसका सेवन कर लें तो उनमें बीमारी होने का जोखिम बढ़ जाता है और दूसरों में भी इसके संक्रमण का खतरा रहता है.

गैस चैंबर बने महानगरों में खुद को रखना है Healthy तो ये करें उपाय

बीमारी के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग हों जागरूक
श्री बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट के रेस्परेटरी मेडिसिन में सीनियर कंसल्टेंट डाक्टर ज्ञानदीप मंगल का कहना है कि इस घातक बीमारी पर नियंत्रण करना बहुत जरूरी है, अन्यथा यह एक राष्ट्रीय बोझ बन सकती है. वह बीमारी के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करने के साथ ही इसकी चपेट में आने वालों के उचित उपचार और उसके आसपास के लोगों को इसके संक्रमण में आने से बचने के लिए पर्याप्त उपाय करने की हिदायत देते हैं.

Health Alerts: गर्भधारण से बढ़ता है दिल की बीमारी का खतरा, Research का दावा

बच्‍चों, महिलाओं व डायबिटीज मरीजों को ज्‍यादा खतरा
उन्होंने बताया कि छोटे बच्चों, गर्भवती महिलाओं, डायबिटीज और दिल की बीमारी से मरीजों के इस बीमारी की चपेट में आने की आशंका अधिक होती है क्योंकि उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली सामान्य लोगों की तुलना में कमजोर होती है. वह सलाह देते हैं कि बीमारी की पहचान कर तत्काल इसका उपचार शुरू करना चाहिए अन्यथा मरीज की मृत्यु भी हो सकती है.

Bikini Climber के नाम से मशहूर Gigi Wu की 35 साल में मौत, ऐसे लेती थीं Selfies

इन बातों का रखें ख्‍याल
नारायणा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल गुरुग्राम के सीनियर आहार विशेषज्ञ परमीत कौर के अनुसार उचित आहार शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और स्वाइन फ्लू होने की स्थिति में भी सफाई और उपचार के साथ ही आहार पर भी विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए. उन्होंने बताया कि एच1एन1 वायरस की चपेट में आने वाले मरीजों के उपचार के लिए तमाम जरूरी एहतियात बरते जाते हैं. बीमारी से संक्रमित लोगों के उपचार के लिए लगभग हर अस्पताल में एक अलग स्वाइन फ्लू वार्ड की व्यवस्था की जाती है ताकि अस्पताल के अन्य मरीजों और स्टाफ को इस बीमारी के संक्रमण से बचाया जा सके.

एक भी दवा खराब पाये जाने पर पूरे बैच के लिए देना होगा जुर्माना: सरकारी प्रस्ताव

बीमारी का पता चलते ही कराएं इलाज
धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशिलिटी अस्पताल के डाक्टर गौरव जैन बताते है कि स्वाइन फ्लू के लक्षण महसूस होने पर तत्काल टेस्ट कराना चाहिए और यदि टेस्ट रिपोर्ट पॉजीटिव आए तो देर किए बिना इलाज किया जाता है. ऐसे में एंटीवायरल दवा देने से मरीज़ को तत्काल राहत मिलती है और कुछ समय के लिए बीमारी की तीव्रता कम हो जाती है. आईडीएसपी के आंकड़ों के अनुसार पिछले साल 14,992 लोग स्वाइन फ्लू के वायरस के शिकार हुए और इनमें से 1,103 की मौत हो गई. उससे पिछले बरस इसका प्रकोप ज्यादा रहा और कुल 38,811 मरीजों में 2,270 को बचाया नहीं जा सका. इस साल भी यह बीमारी दबे पांव चली आ रही है और स्वास्थ्य एजेंसियां इसपर नियंत्रण के तमाम उपाय कर रही हैं.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Rajasthan: 15-member European Team Reviews Faculties, Departments at Maharaja Ganga Singh University



Bikaner: A 15-member team from Europe visited Maharaja Ganga Singh University (MGSU) in Rajasthan’s Bikaner on Thursday to review the various departments at the University. The team included academicians and editors from science magazines of various countries– England, Germany, Italy and France. The team visited the university and reviewed several academic departments and sections on the campus.

Prof. Anil Kumar Chambhani, of the Faculty of Science, apprised the members of the European team about the various academic departments, sections, and administrative department of the University. The members of the European team took part in various research activities on behalf of the university. The members visited the Joint Biodiversity Conservation Sector to observe environmental and biodiversity conservation and other management functions.

The 15-member European team also spoke about the future work plans with regard to the university. The team was led by Prof. Folker Sommer of University College London. Prof. Folker said that University College, London and Europe, will start various educational and self-employment institutes with the help of MGS University and undertake mutual cooperation programs in environment, biodiversity, technical and self-employment related courses and research. The plan of action will be shared in the upcoming session with the University.



Source link

UP govt notifies land for Rs 16,000 cr Noida's Jewar airport



The airport would comprise two runways and handle 70 million passengers and 3 million tonnes cargo annually when fully developed.



Source link