Pongal 2020: Here is How to Make The Popular South Indian Dish, Sweet Pongal



Celebrated during winters especially in South India, Pongal is a four-day-long festival that starts on January 14. Also known as Thai Pongal, it is a harvest festival which is extremely important for Tamilians. The occasion is dedicated to the Hindu god Sun for providing energy that is required for agriculture.

During the festival, people prepare rice by cooking it until it overflows. This is considered a sign of prosperity and abundance. One of the most important and popular recipes that are prepared using rice on Pongal is sweet Pongal. It is also called Chakkara Pongal in Telugu and Sakkarai Pongal in Tamil. Read on to know the recipe of Sweet Pongal.

Ingredients:

Raw Rice – 1/2 cup
Moong dal – 1/4 cup
Jaggery – 1 cup grated
Cashew nuts -2 tablespoons
Raisins -2-3 tablespoons
Cardamom – 1/4 tablespoon powder
Ghee/clarified butter -1/4 cup
Ghee -1/2 tsp

How to prepare:

  1. To begin, dry roast dal and rice. Then, pressure cook them together.
  2. Once the mixture is cooked, mash it well.
  3. Take a pan and heat 1/4 cup of water with jaggery in it. Add ghee in it after the jaggery dissolves completely.
  4. Now, add jaggery syrup and a cup of water.
  5. Also, ass the mashed mixture of rice and dal.
  6. Wait for the mixture to blend well and then add cardamom powder in it.
  7. Before putting dry fruits in the mixture, fry them well in ghee.
  8. Cook the mixture again on low flame for a few minutes after adding cashew nuts and raisins in it so that everything gets blended well.
  9. Your favourite sweet Pongal is ready to be served hot.



Source link

Rice Lovers, Here’s Some Good News For You



Are you eating less rice or skipping rice in your bid to prevent obesity and lose weight? A new research says that eating rice can actually help you lose weight. In fact, the researchers of this study observed that people living in rice-eating nations including Asian countries were less likely to be obese than those who ate very less rice or where rice was not the staple food. One of the first things many do to avoid obesity is to skip rice, but according to the Japanese researchers that led the study, eating 50g of rice a day could help in bringing down obesity levels.
One of the many reasons why rice could keep obesity away was that rice is low in fat, has fibre and other nutrients that could help your body in many ways including increasing the feeling of fullness. Rice is wholesome and nutritious and should hence be a part of your daily diet. Here are some other ways in which rice can help you:

Easy to digest: Rice is easy to digest and hence good for giving you energy especially when you are sick. This is why hot khichdi full of dal and topped with ghee is recommended for those who are sick.

Good for the gut: Rice contains resistant starch which helps our large intestine perform well and prevent the growth of bad bacteria.

Rice helps curb unhealthy cravings: A research said that those who eat rice have higher amounts of potassium, magnesium, iron, folate and fibre in them. The best part about the way we Indians or many other Asians eat rice is that we complement it with lots of protein in the form of dal or fish or vegetables. This helps up the nutrients intake and prevents us from overeating other unhealthy foods.

Rice can help promote good sleep: In moderate quantities, rice is extremely good for your sleep. When you sleep well, you prevent a number of diseases. This is why you shouldn’t refrain from eating rice at dinner.



Source link

चावल खाने से नहीं आती है नींद, पूरे दिन तरो-ताजा रहेंगे आप, जानिए Myth और Truth


चावल खाने से आपका वजन बढ़ता है. चावल खाने से नींद आती है. चावल खाने से आप मोटे हो सकते हैं…! चावल खाने को लेकर ऐसी न जाने कितनी बातें या कह लें Myth आपने सुनी होंगी, लेकिन इनमें से एक भी सही (Truth) नहीं है. जी हां, याद करिए दादी-नानी के जमाने की, जब आप चावल-दाल खाकर स्कूल, कॉलेज या अपने दफ्तर के लिए निकलते थे. क्या कभी आपको स्कूल में नींद आई है? बिल्कुल नहीं. और सच भी यही है, क्योंकि चावल जैसा पौष्टिक भोजन और दूसरा कोई है ही नहीं. चावल खाना दरअसल हमारे खाने को पूरा करता है. मतलब यह कि अगर आपके दिन के भोजन में चावल शामिल है तो आप पूरा खाना खा रहे हैं. क्योंकि चावल खाने से न सिर्फ पेट की भूख पूरी होती है, बल्कि इससे मानसिक संतुष्टि भी मिलती है. इसलिए आज से ही अपने रेगुलर खाने में चावल को शामिल करिए और जिंदगी के पूरे मजे लीजिए.

नशे जैसी होती है चीनी खाने की लत, लगातार ज्यादा मीठा खाने से होती हैं ये बीमारियां…

अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ के अनुसार चावल को ‘Free Food’ कहा जाता है, क्योंकि इसमें सोडियम, कोलेस्ट्रॉल या ग्लूटेन जैसे तत्व नहीं होते हैं. इन तत्वों को हमारे शरीर के लिए हानिकारक माना जाता है. अलबत्ता चावल में 15 प्रकार के विटामिन और मिनरल्स होते हैं, जिनमें फोलिक एसिड, विटामिन B, पोटैशियम, मैग्नीशियम, आयरन और जिंक शामिल है. अगर आप चावल का सेवन नहीं करते हैं, तो इन 15 गुणकारी तत्वों से वंचित रह जाते हैं. शरीर के संपूर्ण पोषण के लिए जरूरी है कि चावल के साथ दाल और हरी सब्जी के सेवन किया जाए. इससे हमें शरीर को लाभ पहुंचाने वाले विभिन्न तत्व एक साथ मिल जाते हैं.



Health tips: रोज करेंगे मालिश तो बढ़ेंगे बाल, सिरदर्द भी होगा दूर

चावल के बारे में Myth और Truth
Myth – चावल में काफी अधिक कैलोरी होती है जिससे मोटापा बढ़ता है.
Truth – चावल में बहुत अधिक मात्रा में कैलोरी नहीं होती, बल्कि यह आपके खाने को संपूर्ण बनाता है और आपके कैलोरी सेवन को सीमित करता है.

Myth – चावल खाने से नींद आती है.
Truth – सिर्फ चावल खाने से नींद आती हो, यह वैज्ञानिक तथ्य नहीं है. बल्कि प्रचुर मात्रा में भोजन करने से नींद आती है. अगर आप चावल के बजाए कोई दूसरा खाना भी खाते हैं, तो आपके शरीर में मौजूद हार्मोन पाचन क्रिया के दौरान उसे खून में बदल देते हैं. इससे रक्त का प्रवाह धीमा हो जाता है और मस्तिष्क को मिलने वाले ऑक्सीजन की मात्रा में कमी आने लगती है, जिससे नींद आती है.

Myth – चावल को तब तक धोना चाहिए जब तक कि पानी साफ न दिखने लगे.
Truth – चावल को पकाने से पहले अच्छी तरह धोना या साफ करना चाहिए, न कि पानी का रंग साफ होने तक धोना जरूरी है. ज्यादा देर तक धोने से चावल में मौजूद विटामिन की मात्रा में कमी आ जाती है.

विटामिन युक्त भोजन नहीं खा रहे अधिकतर भारतीय

Myth – चावल पकाने से पहले उसे पानी में भिगोकर रखना चाहिए.
Truth – इस मिथक को भी कई लोग मानते हैं कि चावल को पकाने से पहले उसे पानी में कुछ देर तक भिगोना चाहिए. जबकि हकीकत यह है कि चावल को पकाने से पहले अगर आप भिगोकर रखते हैं, तो फिर चावल को उसी पानी में पकाना भी चाहिए. इससे चावल में मौजूद सभी पोषक तत्व पानी में बचे रहते हैं जो शरीर के लिए लाभदायक है.

सेहत संबंधी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com



Source link

महिला हैं और रोज खाती हैं चावला-पास्‍ता, तो पढ़ लीजिए वैज्ञानिकों की ये चेतावनी…



नई दिल्‍ली: ज्‍यादातर महिलाओं को चावल खाना पसंद होता है. कई तो दिन में दो बार चावल खाती हैं. यही हाल पास्‍ता के साथ है. अगर ये दोनों चीजें आपको पसंद हैं और आप इनका खूब सेवन करती हैं तो आपको एलर्ट हो जाना चाहिए.

एक नई रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि इनका अधिक सेवन करने से समयपूर्व रजोनिवृत्ति का खतरा बढ़ जाता है. शोध किया है यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स ने.

आपको जानकर हैरानी होगी कि इस तरह के खाने से जुड़े जो पहले शोध किए गए थे उनमें कहा गया था कि इससे हड्डी का घनत्व कम होने लगता है. साथ ही ऑस्टियोपरोसिस और हृदय रोग की समस्याएं भी बढ़ सकती हैं.

दी गई चेतावनी
शोध की रिपोर्ट में का गया है कि अगर महिलाएं इनका अधिक सेवन करती हैं तो उनमें रजोनिवृत्ति समय से लगभग डेढ़ वर्ष पहले हो सकती है. शोध की रिपोर्ट को एपिडेमिलॉजी एंड कम्युनिटी हेल्थ में प्रकाशित किया गया है.

कैसे किया गया शोध
शोध में ब्रिटने में रहने वाली 14,150 महिलाओं को शामिल किया था. महिलाओं से उनके खानपान का पूरा ब्‍योरा लिया गया.

खानपान और नेचुरल मेनोपॉज की आयु के बीच संबंध तलाशा गया. इसके लिए खानपान से संबंधित प्रश्नावली के साथ-साथ महिलाओं के प्रजनन इतिहास और सेहत के बारे में जानकारी जुटाई गई. चार वर्ष के बाद शोधकर्ताओं ने उन महिलाओं की डायट का आकलन किया, जिन्हें इस बीच रजोनिवृत्ति हो गई थी.



Source link