सिगरेट-बीड़ी पीने से ज्यादा खतरनाक है खराब भोजन करना



नई दिल्लीः खराब आहार स्वास्थ्य के लिए धूम्रपान से भी ज्यादा घातक साबित हो रहा है. इसलिए, यह जरूरी है कि लोग जंक फूड से बचें और वनस्पति आधारित आहार को अपनाएं. ग्लोबल बर्डन ऑफ डिसीज स्टडी के वर्ष 2017 के आंकड़े के मुताबिक, विश्व में 20 प्रतिशत मौतें खराब आहार के कारण होती हैं. ऐसा देखा गया है कि तनावपूर्ण वातावरण लोगों को चटपटे, मसालेदार जंक फूड वगैरह खाने के लिए प्रेरित करते हैं. इस आदत ने पौष्टिक भोजन की परिभाषा को बिगाड़ दिया है. यह समझना महत्वपूर्ण है कि स्वस्थ आहार का मतलब व्यक्ति के वर्तमान वजन के 30 गुना के बराबर कैलोरी का उपभोग करना ही नहीं है. स्थूल और सूक्ष्म पोषक तत्वों का सही संतुलन भी उतना ही आवश्यक है.

हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. केके अग्रवाल का कहना है, “हमारे प्राचीन अनुष्ठानों और परंपराओं ने हमें आहार की समस्याओं के बारे में बताया है. वे विविधता और सीमा के सिद्धांतों की वकालत करते हैं, यानी मॉडरेशन में कई तरह के भोजन खाने चाहिए. वे यह भी कहते हैं कि भोजन में सात रंगों (लाल, नारंगी, पीला, हरा, नीला, बैंगनी, सफेद) तथा छह स्वादों (मीठा, खट्टा, नमकीन, कड़वा, चटपटा और कसैला) को शामिल करने की सलाह देते हैं. हमारी पौराणिक कथाओं में भोजन चक्र के कई उदाहरण हैं, जैसे कि उपवास हमारे लिए एक परंपरा है. हालांकि, इसका मतलब कुछ भी नहीं खाना नहीं है, बल्कि कुछ चीजों को छोड़ने की अपेक्षा की जाती है.”

उन्होंने बताया कि किसी व्यक्ति ने कुछ खाया है, मस्तिष्क को यह संकेत केवल 20 मिनट बाद मिलता है. इसके लिए प्रत्येक ग्रास को कम से कम 15 बार चबाना महत्वपूर्ण है. यह न केवल एंजाइमों के लिए पर्याप्त हार्मोन प्रदान करता है, बल्कि मस्तिष्क को संकेत भी भेजता है. इसलिए प्रति भोजन का समय 20 मिनट होना चाहिए.

डॉ. अग्रवाल ने आगे कहा, “स्वाद कलिकाएं केवल जीभ के सिरे और किनारे पर होती हैं. यदि आप भोजन को निगल लेते हैं, तो मस्तिष्क को संकेत नहीं मिलेंगे. छोटे टुकड़ों को खाने और उन्हें ठीक से चबाने से भी स्वाद कलिकाओं के माध्यम से संकेत मिलते हैं. पेट की परिपूर्णता या फुलनेस का आकार तय करता है कि कोई कितना खा सकता है. मस्तिष्क को संकेत तभी मिलता है जब पेट 100 प्रतिशत भरा हो. इसलिए, आपको पेट भरने की बजाय उसके आकार को भरना चाहिए. इसके अलावा, अगर आप कम खाते हैं तो समय के साथ पेट का आकार सिकुड़ जाएगा.”

डॉ. अग्रवाल के सुझाव :
* कम खाएं और धीरे-धीरे खाकर अपने भोजन का आनंद लें.
* अपनी थाली को फल और सब्जियों से भरें.
* आहार में अनाज का कम से कम आधा भाग साबुत अनाज होना चाहिए.
* ट्रांस फैट और चीनी की अधिकता वाले भोजन से बचें.
* स्वस्थ वसा चुनें. वसा रहित या कम वसा वाले दूध और डेयरी उत्पादों का उपयोग करें.
* खूब पानी पिएं. शर्करा युक्त पेय से बचें.
* उन खाद्य पदार्थो से बचें, जिनमें सोडियम का उच्च स्तर होता है, जैसे स्नैक्स, प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ.
* इन सबसे ऊपर, अपनी गतिविधि के साथ अपने भोजन के विकल्पों को संतुलित करें.



Source link

Quit Smoking to Reduce Bladder Cancer Risk



Quitting smoking can reduce the risk of bladder cancer in older women, says a study, adding that the most significant reduction in risk occurred in the first 10 years after quitting. The researchers used various statistical models to analyse the association between the years since quitting smoking and the risk of bladder cancer.

For the study, the researchers included data from 143,279 women, all of whom had supplied information on whether they had ever smoked cigarettes, how much they had smoked and whether they were current smokers.

The study found that 52.7 per cent of the women were categorised as “never smokers,” 40.2 per cent as former smokers, and 7.1 per cent as current smokers.

“Although bladder cancer is a fairly rare cancer type, representing an estimated 4.6 per cent of new cancer cases in 2019, it is the most common malignancy of the urinary system, with high recurrence rate and significant mortality,” said Yueyao Li, Ph.D candidate from the School of Public Health, Indiana University in Bloomington, US.

“Smoking is a well-established risk factor for bladder cancer, but findings on the relationship between duration of smoking cessation and the reduction in bladder cancer risk are inconsistent,” Li added.

Published in the journal Cancer Prevention Research, the study found that the steepest reduction in risk occurred in the first 10 years after quitting smoking, with a 25 per cent drop. The risk continued to decrease after 10 years of quitting.

“Our study emphasizes the importance of primary prevention (by not beginning to smoke) and secondary prevention (through smoking cessation) in the prevention of bladder cancer among postmenopausal women,” said Li.



Source link

World Health Day 2019: Here’s One More Reason to Stop Smoking



Do you smoke cigarettes? Think twice before taking another drag as it may not only damage your heart or lungs but can also make you blind, experts say. Smoking harms the retina — the light-sensing tissue in the back of the eyes, responsible for transmitting images to the brain.

“It’s like a film of a camera which converts light rays into impulses which help us see,” Raja Narayanan, Head of L.V. Prasad Eye Institute (LVPEI), Hyderabad told IANS.

“Smoking increases the chemical compounds in the bloodstream thereby reducing blood and oxygen flow to the retina. This makes smokers two times more susceptible to Age related Macular Degeneration (AMD),” Narayanan added.

A recent study, published in the journal Psychiatry Research, indicated significant changes in the smokers’ red-green and blue-yellow colour vision, which suggested that consuming substances with neurotoxic chemicals, such as those in cigarettes, may cause overall colour vision loss.

Smoking is one of the largest preventable causes of various diseases and premature deaths worldwide.

India was among the top 10 countries together accounting for almost two-thirds of the world’s smokers (63.6 per cent) in 2015, according to a Global Burden of Disease study published in The Lancet in 2017.

Smoking can further affect a bunch of eye diseases like cataract, glaucoma etc. While diseases related to the front of the eye are easily recognised, retinal diseases like AMD and Diabetic Macular Edema (DME) might develop silently and lead to progressive vision loss if not treated on time.

“The vision loss caused by retinal diseases cannot be reversed. However, if the condition is diagnosed on time the disease can be managed effectively to prevent further loss of vision. Recognition of symptom is a key aspect for timely diagnosis,” Ajay Dudani, Ophthalmologist/Eye and Vitreoretinal Surgeon, Mumbai Retina Centre, told IANS.

“The symptoms of these retinal diseases are often confused with those of old age or other eye disorders which leads to delayed diagnosis,” he added.

People with diabetes need to be extra cautious of any vision changes and need to follow a healthy lifestyle as they are more susceptible to diabetic retinopathy.

“Today, there are treatment options available that can slow or halt disease progression. Some of the treatment options available in India include laser photocoagulation, anti-VEGF (Vascular Endothelial Growth Factor) injections and combination therapy which includes laser and anti-VEGF treatment,” Dudani asserted.

According to experts, owing to an unhealthy lifestyle, dietary habits and constant stress and exposure to digital screens, the incidence of retinal diseases and other eye disorders is rising amongst the working population.

They say that a cessation programme can help an individual quit smoking.

“It can be advised to consult an expert and take up a cessation programme to quit smoking. Other than this, maintaining a healthy lifestyle and including a range of brightly coloured fruits and vegetables, that have antioxidants can help maintain retinal health,” Narayanan said.

“Dark, leafy greens such as kale, spinach, lettuce etc. have lutein and zeaxanthin – both important nutrients for eye health. Certain vitamins like vitamin C and vitamin A also help in overall eye health and help prevent the progression of AMD and DME,” he noted.



Source link

Mother’s Smoking During Pregnancy May Increase The Risk of Infant’s Obesity



Children whose mothers smoked during their pregnancy are at increased risk of being obese later in life, say researchers.

The findings, published in the journal Experimental Physiology, showed that chemerin, a protein that is produced by fat cells and appears to play a role in energy storage, was more prevalent in the skin and isolated cells of infants whose mothers smoked during pregnancy.

Previous research had shown that chemerin is present in higher levels in the blood of obese people.

The new results suggest that smoking in pregnancy could lead to changes in the regulation of the genes that play an important role in fat cell development and, by extension, obesity.

“It has been consistently shown that mothers who smoke during pregnancy confer increased risk of obesity to their baby, but the mechanisms responsible for this increased risk are not well understood,” said Kevin Pearson from the University of Kentucky in the US.

“Our work demonstrated that expectant mothers who smoke cigarettes during pregnancy induce distinct changes in chemerin gene expression in their offspring,” Pearson said.

For the study, the researchers recruited a total of 65 new mothers. All of the infants were full-term and approximately half of all new mothers reported smoking during their pregnancies.

The current and future results could provide a springboard for the development of effective treatments against pediatric and adult obesity in babies born to smokers as well as those exposed to other in utero environmental exposures, the team noted.



Source link

Electronic cigarettes: Healthier alternative to regular tobacco cigarettes?



Electronic cigarettes, popularly touted as healthier alternatives to regular cigarettes, has now been associated with a higher risk of coronary artery disease, anxiety, circulatory problems, depression and stroke. Electronic cigarettes heat liquids typically containing nicotine and some flavours to release steam or vapours which are then inhaled by the smoker. Many think that e-cigarettes can cut down the risk of health problems posed by regular cigarettes. However, a study by the University of Kansas in the US has debunked this belief. The study has found that smoking e-cigarettes, also called as vaping can increase your chances of suffering from heart attacks by 56 per cent, from strokes by 30 per cent, from coronary artery disease by 10 per cent and from circulatory problems by 44 per cent. Many e-cigarettes contain nicotine. E-cigarettes are known to release toxic compounds very similar to tobacco smoking. The study also noted that the health risks of diseases for those who smoke regular tobacco cigarettes are much higher as compared to those who use e-cigarettes. But, by no means does that mean that e-cigarettes are a safer option, according to some studies.

Recently, the US Food and Drug Administration (FDA) proposed to curb sales of all flavoured electronic nicotine delivery system (ENDS) products such as electronic cigarettes, except tobacco, mint and menthol-flavoured products to teenagers. This reason was to ‘prevent youth access to, and appeal of, flavoured e-cigarettes and cigars,’ according to FDA Commissioner Scott Gottlieb, said in a statement. One of the main problems with e-cigarettes is that they can be highly addictive because of the flavours. A research found that flavours, especially fruit-based ones don’t just attract but also retain smokers into the vaping category.

Here are some health risks associated with e-cigarettes:

  • A previous study by the University of Nevada, Reno claimed that e-cigarettes release a large quantity of cancer-causing aldehydes which are absorbed into the lungs. in fact, non-cigarette tobacco users including those using electronic cigarettes are exposed to high levels of carcinogen, almost as much as a regular cigarette smoker exposed to. In fact, e-cigarette smokers were found to have greater exposure to Tobacco-Specific Nitrosamines (TSNA), another factor responsible for cancer.
  • E-cigarettes can also prevent faster skin wound healing. Regular tobacco cigarettes, too,  are known to delay healing of skin wounds and infections.
  • A Greek study in 2018 claimed that e-cigarette flavours damage the lungs by causing inflammation which is similar to or worse than regular cigarettes.

 



Source link

Sudden Unexpected Infant Death and Other Health Risks of Smoking During Pregnancy



It has been proven time and again that smoking kills. When it comes to smoking and pregnancy, the risks are dangerous to the mother and the baby too. A new study published in Pediatrics says that smoking just one cigarette can double the risk of sudden unexpected infant death. This refers to a condition when an infant (below the age of one) dies unexpectedly from causes that are not obvious and that need to be investigated. In the study, it was observed that sudden unexpected infant death occurs more in women who smoked an average of 1-20 cigarettes a day. Even women who smoked three months before pregnancy but had given up smoking by the first trimester had a high risk of sudden unexpected infant death. Giving up smoking by the third trimester was observed to reduce the risk by 23 per cent. Apart from sudden unexpected infant death, there are many other dangerous health consequences of smoking during and before pregnancy. Here are some of them:

Heart defects:  Mothers who smoke during their pregnancy are likely to have a 50 to 70 per cent higher risk of having newborns with heart defects. These newborns are at a 20 per cent greater risk of having atrial septal defect or holes in the wall between the two upper chambers of the heart.

Liver damage: Smoking can adversely affect foetal organs, especially the liver, notes a study by the University of Edinburgh. Interestingly, it was observed that female fetuses get more damaged than male fetuses as a result of smoking.

Early puberty: A study by the Aarhus University said that pregnant women who had smoked more than ten cigarettes a day during pregnancy were likely to have kids who developed puberty three to six months earlier than the children of non-smokers. According to the research, early puberty could spell major trouble for the kid in the future as it has been associated with an increase in the risk of obesity, diabetes, cardiovascular diseases and cancer.

Asthma and lung infections: When the foetus is exposed to tobacco smoke, its lungs can get affected. The child could also develop respiratory disorders like asthma in the future. Even second-hand smoke is dangerous for the unborn baby.

Hearing loss: Women who smoke during pregnancy or those who are exposed to second-hand smoke at around 4 months of pregnancy have twice the risk of having children with hearing defects.

Cleft lip: There’s a strong association between cleft lip and prenatal exposure to tobacco smoke. Studies have found that smoking mothers are more likely to have offsprings with cleft lip or cleft palate.

Obesity: Smoking during pregnancy can cause the offspring later in life. Smoking is known to accelerate fat cell development that could lead to obesity. Obesity could then further lead to a number of health complications including diabetes, hypertension, cancer and cardiovascular diseases.

 

 



Source link

Prolonged Smoking Cessation May Actually Delay or Even Prevent Onset of Rheumatoid Arthritis



Long-term smoking cessation in women was associated with a lower risk of rheumatoid arthritis (RA) compared to those who had recently quit, a new study has shown. Rheumatoid arthritis is a chronic inflammatory disorder affecting many joints, including those in the hands and feet.

The study showed that the risk of seropositive RA – when patients have antibodies in their blood that help identify the disease – was reduced by 37 per cent for those who sustained smoking cessation for 30 or more years compared with those who recently quit smoking.

“Our study is one of the first to show that a behaviour change of prolonged smoking cessation may actually delay or even prevent the onset of seropositive RA, suggesting lifestyle changes may modify risk for development of a systemic rheumatic disease,” said Jeffrey Sparks from the Brigham and Women’s Hospital in the US.

Patients who have seropositive RA tend to have a more severe disease course with more joint deformities, disability, and inflammation outside of the joints.

On the other hand, there was no association of smoking with seronegative RA – when patients have no antibodies in their blood that help identify the disease – suggesting a different pathogenesis than seropositive RA, said the study, published in the journal, Arthritis Care & Research.

Smoking has been known to be a major risk factor for various diseases including heart disease and cancer.

According to the World Health Organisation, rheumatoid arthritis tends to strike during the most productive years of adulthood, between the ages of 20 and 40 and is more common among women.

For the study, the researchers included 230,732 women.



Source link

गर्भावस्था के दौरान हल्‍के में न लें पेट का दर्द, हो सकती हैं 7 परेशानियां, बरतें ये सावधानी



नई दिल्ली: आमतौर पर गर्भावस्था में पेट दर्द होना सामान्य बात है लेकिन अगर यह लगातार हो रहा है तो परेशानी बढ़ सकती है. गर्भावस्था में किस तरह का पेट दर्द सामान्य माना जा सकता है और किस तरह का नहीं, इसे समझना जरूरी है.

उदयपुर स्थित नारायण सेवा संस्थान के वरिष्ठ सर्जन डॉ. अमरसिंह चूंडावत के अनुसार गर्भाशय का विस्तार होने के साथ चूंकि मां के अंग शिफ्ट हो हाते हैं और साथ ही अस्थि-बंधन एक साथ फैल रहे होते हैं, ऐसे में पेट दर्द स्वाभाविक भी है. लेकिन यह भी जानना जरूरी है कि पेट दर्द को कब गम्भीरता से लिया जाए. डॉ. चूंडावत कहते हैं कि पेट दर्द को तब गंभीर माना जा सकता है, जब पेट दर्द के साथ उल्टी, बुखार, ठंड लगना और योनि से असामान्य रक्तस्राव होने लगे. साथ ही राउंड लिगामेंट दर्द अधिकतम कुछ मिनट के लिए ही होता है, ऐसे में यदि पेट में दर्द लगातार है तो मामला गंभीर है. इसके अलावा अगर पेटदर्द से चलना बोलना या सांस लेना भी मुश्किल हो जाए तो इसे गम्भीरता से लिया जाना चाहिए. इस तरह के पेट में दर्द के निम्नलिखित परिणाम हो सकते हैं.

रैजुमैब इंजेक्शन से आंखों की रोशनी होती है प्रभावित, प्रयोग करने से बचें: विशेषज्ञ

1. गर्भपात
हेल्थ मैनेजमेंट इंफॉर्मेंशन सिस्टम के अनुसार समूचे भारत में स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली के अनुसार, अप्रैल 2017 से मार्च 2018 तक 5.55 लाख गर्भपात दर्ज किए गए हैं, जिनमें से 4.7 लाख सरकारी अस्पतालों में हुए थे. गर्भपात के मामलों में पेट दर्द की महत्वपूर्ण भूमिका है. हर 5-20 मिनट में संकुचन, पीठ दर्द, ऐंठन के साथ या बिना रक्तस्राव, रक्तस्राव या योनि में हल्की या तेज ऐंठन, गर्भावस्था के अन्य लक्षणों में अप्रत्याशित रूप से कमी आदि गर्भपात के प्रमुख संकेत है.

2. समय से पहले जन्म
समय से पहले जन्म 24 से 37वें सप्ताह में होता है. बॉर्न टू सून : वल्र्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की ओर से प्रीटर्म बर्थ पर ग्लोबल एक्शन रिपोर्ट अन्य रिपोटरें के साथ मिलकर कहती है कि भारत में कुल 3,519,100 लोगों का जन्म समयपूर्व होता है, यह कुल जन्म का लगभग 24 प्रतिशत है. जैसा कि डेटा इंगित करता है भारत दुनिया की समयपूर्व डिलीवरी में 60 प्रतिशत योगदान देने वाले 10 देशों की सूची में सबसे ऊपर है. डॉक्टरों और स्त्रीरोग विशेषज्ञ गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था की अवधि के दौरान नियमित चिकित्सा जांच के लिए जाने का सुझाव देते हैं.

Alert: बढ़ रहा है वजन पर महसूस होती है कमजोरी! तो हो सकती है ये बीमारी…

3. प्रीक्लेम्पसिया
20 सप्ताह की गर्भावस्था के बाद महिलाएं उच्च रक्तचाप की समस्या से भी ग्रस्त हो सकती हैं. कभी-कभी महिलाओं के मूत्र में प्रोटीन भी आने लगता है. यह बच्चे के विकास को धीमा कर देता है क्योंकि उच्च रक्तचाप गर्भाशय में रक्त वाहिकाओं के कसने का कारण बन सकता है. सिरदर्द, मतली, सूजन, पेटदर्द और नजर के धुंधले होने जैसे इसके कई लक्षण हैं.

4. मूत्र पथ के संक्रमण
जीवाणु संक्रमण से मूत्र पथ के संक्रमण हो सकते हैं. यह मूत्र पथ को प्रभावित कर सकता है. यूटीआई मूत्रमार्ग, मूत्राशय और यहां तक कि गुर्दे में संक्रमण की ओर ले जाता है. इस स्थिति के साथ आने वाले लक्षणों में जननांग क्षेत्र में जलन, पेशाब करने की इच्छा, पेशाब के दौरान जलन और पीठ में दर्द शामिल हो सकते हैं. अध्ययनों के अनुसार, क्रैनबेरी के नियमित सेवन से यूटीआई को रोका जा सकता है.

5. अपेंडिसाइटिस
गर्भावस्था के दौरान अपेंडिक्स के संक्रमण से गर्भावस्था में सर्जरी की स्थितियां बन जाती हैं. यह शरीर में होने वाले शारीरिक परिवर्तनों के कारण होता है. डॉक्टरों के अनुसार, पहली और दूसरी तिमाही में निदान करना आसान है. निचले हिस्से में दर्द, उल्टी और भूख की कमी जैसे लक्षण हैं.

Tips: बेहद गुणकारी है इस फल का पत्‍ता, तुरंत रोक देता है Hair Fall

6. पित्ताशय की पथरी
अतिरिक्त एस्ट्रोजन के कारण गर्भावस्था के दौरान पित्ताशय की पथरी एक आम समस्या है. लक्षण जो पित्ताशय की पथरी का कारण बन सकते हैं- अधिक वजन, 35 वर्ष से अधिक आयु और परिवार में पथरी का चिकित्सा इतिहास है.

7. एक्टोपिक गर्भावस्था
महिलाओं को पेट में गंभीर दर्द की शिकायत तब भी होती है जब अंडा, गर्भाशय के अलावा किसी अन्य स्थान पर प्रत्यारोपित हो जाता है. एक्टोपिक गर्भावस्था में गर्भावस्था के 6-10वें सप्ताह के बीच दर्द और रक्तस्राव होता है. गर्भाधान के समय अगर एंडोमेट्रियोसिस, ट्यूबल लाइगैशन और गर्भधारण के दौरान इन्ट्रायूटरिन डिवाइस का इस्तेमाल हो तो महिलाएं अधिक जोखिम में होती हैं.

प्रेगनेंसी के दौरान न करें ये काम वरना Newborn Baby के कटे हो सकते हैं होंठ

गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां-
-दर्द होने पर तत्काल आराम करें
-पेट के निचले हिस्से में दर्द होने पर गर्म पानी से स्नान करें
-पीड़ा को कम करने के लिए गर्म वॉटर-बॉटल से सेंकाई करें
-पेट के वायरस और भोजन की विषाक्तता के लिहाज से विशेष सावधानी बरतें
-सुपाच्य भोजन विकल्प
भले ही गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द को निरापद माना जाता हो पर महिलाओं को पेट के दर्द से जुड़े चेतावनी संकेतों पर नजर रखनी चाहिए और अगर परेशानी बढ़ गई है तो बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

प्रेगनेंसी के दौरान न करें ये काम वरना Newborn Baby के कटे हो सकते हैं होंठ



नई दिल्ली: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के नए अध्ययन के मुताबिक गर्भावस्था के शुरुआती कुछ सप्ताह में धूम्रपान, शराब पीने, चूल्हे से निकलने वाले धुएं के बीच सांस लेने या परोक्ष धूम्रपान, ज्यादा दवाएं लेने एवं विकिरण की चपेट में आने और पोषण संबंधी कमियां होने से नवजात के चेहरे में जन्मजात विकृतियां हो सकती हैं. अध्ययन के मुताबिक, इनके कारण होंठ कटे हो सकते हैं या तालू में कोई विकृति हो सकती है.

दिल्ली में हर साल औसतन 50 हजार गर्भपात, प्रसव के दौरान मां की मौत का आंकड़ा भी बढ़ा

कटे हुए होंठों से बच्चे को बोलने और खाना चबाने में दिक्कत आती है. इससे दांत भी बेतरतीब हो जाते हैं, जबड़े से उनका तालमेल बिठाने में दिक्कत पेश आती है और चेहरे की आकृति बिगड़ी नजर आती है. एक अनुमान के मुताबिक, एशिया में प्रति 1,000 या इससे ज्यादा नवजात में से करीब 1.7 फीसदी के होंठ कटे होते हैं या तालू में विकृति होती है. भारत में इससे जुड़े आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन देश के अलग-अलग हिस्से में हुए कई अध्ययन बताते हैं कि होंठ कटे होने के कई मामले सामने आते रहे हैं. अनुमान हैं कि भारत में हर साल करीब 35,000 ऐसे नए मामले सामने आते हैं.

खुशहाल जिंदगी के लिए कितना जरूरी है फिजिकल रिलेशनशिप

तीन चरणों में हुआ अध्‍ययन
एम्स के दंत चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान (सीडीईआर) ने 2010 में इस अध्ययन की शुरुआत की जिसे तीन चरणों – प्री पायलट, पायलट और मल्टी सेंट्रिक में पूरा किया जा रहा है. अभी नई दिल्ली, हैदराबाद, लखनऊ और गुवाहाटी में मल्टी सेंट्रिक चरण चल रहा है. पायलट चरण में दिल्ली के एम्स, सफदरजंग अस्पताल और गुड़गांव के मेदांता मेडिसिटी में यह अध्ययन हुआ.

महिलाओं का दिमाग क्‍यों चलता है तेज, पुरुष क्‍यों रह जाते हैं पीछे, जानिए कारण

विकृति से जूझ रहे मरीजों को इलाज की फौरन जरूरत
इस परियोजना के प्रमुख शोधकर्ता एवं सीडीईआर के प्रमुख ओपी खरबंदा ने कहा कि मकसद यह था कि मरीजों के दस्तावेज इकट्ठा करने की प्रक्रिया में एकरूपता हो. उन्होंने कहा कि इससे खुलासा हुआ कि इस विकृति से जूझ रहे मरीजों को इलाज की तत्काल जरूरत होती है और इसके लिए गुणवत्तापूर्ण देखभाल प्रदान की व्यवस्था में सुधार की रणनीति बनाने की जरूरत है.



Source link

Health: अगर आप धूम्रपान छोड़ने के बारे में सोच रहे हैं तो आया नया तरीका, होगा Double effective



लंदन: अगर आप धूम्रपान छोड़ने के बारे में सोच रहे हैं तो निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की तुलना में इलेक्ट्रोनिक सिगरेट, जिसे आम तौर पर ई-सिगरेट के रूप में जाना जाता है इस लक्ष्य को हासिल करने में आपकी मदद कर सकती है. एक बड़े क्लीनिकल ट्रायल के नतीजों में इस बात का खुलासा हुआ है. न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, ई-सिगरेट निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की तुलना में धूम्रपान करने वालों को धूम्रपान छोड़ने में मदद करने में लगभग दोगुना प्रभावी है.

सर्दियों में ऐसे बनाएं मसाला चाय, इन तकलीफों से रखेगी आपको दूर

ट्रायल में पाया गया कि ई-सिगरेट के 18 फीसदी उपयोगकर्ताओं को एक साल बाद धूम्रपान से निजात मिल गई जबकि निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार अपना रहे केवल 9.9 फीसदी ऐसा कर पाने में कामयाब रहे. इस ट्रायल में 900 स्मोकर शमिल हुए थे, जिन्हें निकोटीन छोड़ने संबंधी अतिरिक्त थेरेपी भी मुहैया कराई गई. क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन में प्रोफेसर व मुख्य शोधकर्ता पीटर हाजेक ने कहा कि धूम्रपान छोड़ने में मदद करने के लिए आधुनिक ई-सिगरेट की क्षमता के परीक्षण का यह पहला ट्रायल है. ई-सिगरेट, निकोटिन प्रतिस्थापन उत्पादों के ‘गोल्ड स्टैंडर्ड’ के संयोजन के रूप में करीब दुगना प्रभावी है.

Health Tips: अखरोट खाने से कम हो सकता है D‍epression का खतरा

ई-सिगरेट की मदद से से छोड़ा धूम्रपान
हाजेक ने कहा कि हालांकि धूम्रपान करने वाले लोगों की बड़ी संख्या ने कहा कि उन्होंने ई-सिगरेट की मदद से सफलतापूर्वक धूम्रपान छोड़ दिया. वहीं स्वास्थ्य पेशेवर नियंत्रित ट्रायल से आए स्पष्ट प्रमाणों की कमी के कारण इसके उपयोग की सिफारिश को लेकर अभी भी असंतुष्ट हैं. अब इसमें बदलाव आ सकता है.

सर्दियों में ज्यादा ठंड लगे तो हो जाएं Alert, आपको है इस बीमारी का खतरा

886 धूम्रपान करने वाले लोगों पर किया रिसर्च
यह नया अध्ययन 886 धूम्रपान करने वाले लोगों पर किया गया, जो ब्रिटेन नेशनल हेल्थ सर्विस स्टॉप स्मोकिंग सेवाओं में शरीक हुए थे. यह अध्ययन निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की रेंज की तुलना में नई रीफिलेबल ई-सिगरेट की दीर्घकालिक प्रभावकारिता के परीक्षण के लिए किया गया था. (इनपुट एजेंसी)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link