Electronic cigarettes: Healthier alternative to regular tobacco cigarettes?



Electronic cigarettes, popularly touted as healthier alternatives to regular cigarettes, has now been associated with a higher risk of coronary artery disease, anxiety, circulatory problems, depression and stroke. Electronic cigarettes heat liquids typically containing nicotine and some flavours to release steam or vapours which are then inhaled by the smoker. Many think that e-cigarettes can cut down the risk of health problems posed by regular cigarettes. However, a study by the University of Kansas in the US has debunked this belief. The study has found that smoking e-cigarettes, also called as vaping can increase your chances of suffering from heart attacks by 56 per cent, from strokes by 30 per cent, from coronary artery disease by 10 per cent and from circulatory problems by 44 per cent. Many e-cigarettes contain nicotine. E-cigarettes are known to release toxic compounds very similar to tobacco smoking. The study also noted that the health risks of diseases for those who smoke regular tobacco cigarettes are much higher as compared to those who use e-cigarettes. But, by no means does that mean that e-cigarettes are a safer option, according to some studies.

Recently, the US Food and Drug Administration (FDA) proposed to curb sales of all flavoured electronic nicotine delivery system (ENDS) products such as electronic cigarettes, except tobacco, mint and menthol-flavoured products to teenagers. This reason was to ‘prevent youth access to, and appeal of, flavoured e-cigarettes and cigars,’ according to FDA Commissioner Scott Gottlieb, said in a statement. One of the main problems with e-cigarettes is that they can be highly addictive because of the flavours. A research found that flavours, especially fruit-based ones don’t just attract but also retain smokers into the vaping category.

Here are some health risks associated with e-cigarettes:

  • A previous study by the University of Nevada, Reno claimed that e-cigarettes release a large quantity of cancer-causing aldehydes which are absorbed into the lungs. in fact, non-cigarette tobacco users including those using electronic cigarettes are exposed to high levels of carcinogen, almost as much as a regular cigarette smoker exposed to. In fact, e-cigarette smokers were found to have greater exposure to Tobacco-Specific Nitrosamines (TSNA), another factor responsible for cancer.
  • E-cigarettes can also prevent faster skin wound healing. Regular tobacco cigarettes, too,  are known to delay healing of skin wounds and infections.
  • A Greek study in 2018 claimed that e-cigarette flavours damage the lungs by causing inflammation which is similar to or worse than regular cigarettes.

 



Source link

Sudden Unexpected Infant Death and Other Health Risks of Smoking During Pregnancy



It has been proven time and again that smoking kills. When it comes to smoking and pregnancy, the risks are dangerous to the mother and the baby too. A new study published in Pediatrics says that smoking just one cigarette can double the risk of sudden unexpected infant death. This refers to a condition when an infant (below the age of one) dies unexpectedly from causes that are not obvious and that need to be investigated. In the study, it was observed that sudden unexpected infant death occurs more in women who smoked an average of 1-20 cigarettes a day. Even women who smoked three months before pregnancy but had given up smoking by the first trimester had a high risk of sudden unexpected infant death. Giving up smoking by the third trimester was observed to reduce the risk by 23 per cent. Apart from sudden unexpected infant death, there are many other dangerous health consequences of smoking during and before pregnancy. Here are some of them:

Heart defects:  Mothers who smoke during their pregnancy are likely to have a 50 to 70 per cent higher risk of having newborns with heart defects. These newborns are at a 20 per cent greater risk of having atrial septal defect or holes in the wall between the two upper chambers of the heart.

Liver damage: Smoking can adversely affect foetal organs, especially the liver, notes a study by the University of Edinburgh. Interestingly, it was observed that female fetuses get more damaged than male fetuses as a result of smoking.

Early puberty: A study by the Aarhus University said that pregnant women who had smoked more than ten cigarettes a day during pregnancy were likely to have kids who developed puberty three to six months earlier than the children of non-smokers. According to the research, early puberty could spell major trouble for the kid in the future as it has been associated with an increase in the risk of obesity, diabetes, cardiovascular diseases and cancer.

Asthma and lung infections: When the foetus is exposed to tobacco smoke, its lungs can get affected. The child could also develop respiratory disorders like asthma in the future. Even second-hand smoke is dangerous for the unborn baby.

Hearing loss: Women who smoke during pregnancy or those who are exposed to second-hand smoke at around 4 months of pregnancy have twice the risk of having children with hearing defects.

Cleft lip: There’s a strong association between cleft lip and prenatal exposure to tobacco smoke. Studies have found that smoking mothers are more likely to have offsprings with cleft lip or cleft palate.

Obesity: Smoking during pregnancy can cause the offspring later in life. Smoking is known to accelerate fat cell development that could lead to obesity. Obesity could then further lead to a number of health complications including diabetes, hypertension, cancer and cardiovascular diseases.

 

 



Source link

Prolonged Smoking Cessation May Actually Delay or Even Prevent Onset of Rheumatoid Arthritis



Long-term smoking cessation in women was associated with a lower risk of rheumatoid arthritis (RA) compared to those who had recently quit, a new study has shown. Rheumatoid arthritis is a chronic inflammatory disorder affecting many joints, including those in the hands and feet.

The study showed that the risk of seropositive RA – when patients have antibodies in their blood that help identify the disease – was reduced by 37 per cent for those who sustained smoking cessation for 30 or more years compared with those who recently quit smoking.

“Our study is one of the first to show that a behaviour change of prolonged smoking cessation may actually delay or even prevent the onset of seropositive RA, suggesting lifestyle changes may modify risk for development of a systemic rheumatic disease,” said Jeffrey Sparks from the Brigham and Women’s Hospital in the US.

Patients who have seropositive RA tend to have a more severe disease course with more joint deformities, disability, and inflammation outside of the joints.

On the other hand, there was no association of smoking with seronegative RA – when patients have no antibodies in their blood that help identify the disease – suggesting a different pathogenesis than seropositive RA, said the study, published in the journal, Arthritis Care & Research.

Smoking has been known to be a major risk factor for various diseases including heart disease and cancer.

According to the World Health Organisation, rheumatoid arthritis tends to strike during the most productive years of adulthood, between the ages of 20 and 40 and is more common among women.

For the study, the researchers included 230,732 women.



Source link

गर्भावस्था के दौरान हल्‍के में न लें पेट का दर्द, हो सकती हैं 7 परेशानियां, बरतें ये सावधानी



नई दिल्ली: आमतौर पर गर्भावस्था में पेट दर्द होना सामान्य बात है लेकिन अगर यह लगातार हो रहा है तो परेशानी बढ़ सकती है. गर्भावस्था में किस तरह का पेट दर्द सामान्य माना जा सकता है और किस तरह का नहीं, इसे समझना जरूरी है.

उदयपुर स्थित नारायण सेवा संस्थान के वरिष्ठ सर्जन डॉ. अमरसिंह चूंडावत के अनुसार गर्भाशय का विस्तार होने के साथ चूंकि मां के अंग शिफ्ट हो हाते हैं और साथ ही अस्थि-बंधन एक साथ फैल रहे होते हैं, ऐसे में पेट दर्द स्वाभाविक भी है. लेकिन यह भी जानना जरूरी है कि पेट दर्द को कब गम्भीरता से लिया जाए. डॉ. चूंडावत कहते हैं कि पेट दर्द को तब गंभीर माना जा सकता है, जब पेट दर्द के साथ उल्टी, बुखार, ठंड लगना और योनि से असामान्य रक्तस्राव होने लगे. साथ ही राउंड लिगामेंट दर्द अधिकतम कुछ मिनट के लिए ही होता है, ऐसे में यदि पेट में दर्द लगातार है तो मामला गंभीर है. इसके अलावा अगर पेटदर्द से चलना बोलना या सांस लेना भी मुश्किल हो जाए तो इसे गम्भीरता से लिया जाना चाहिए. इस तरह के पेट में दर्द के निम्नलिखित परिणाम हो सकते हैं.

रैजुमैब इंजेक्शन से आंखों की रोशनी होती है प्रभावित, प्रयोग करने से बचें: विशेषज्ञ

1. गर्भपात
हेल्थ मैनेजमेंट इंफॉर्मेंशन सिस्टम के अनुसार समूचे भारत में स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली के अनुसार, अप्रैल 2017 से मार्च 2018 तक 5.55 लाख गर्भपात दर्ज किए गए हैं, जिनमें से 4.7 लाख सरकारी अस्पतालों में हुए थे. गर्भपात के मामलों में पेट दर्द की महत्वपूर्ण भूमिका है. हर 5-20 मिनट में संकुचन, पीठ दर्द, ऐंठन के साथ या बिना रक्तस्राव, रक्तस्राव या योनि में हल्की या तेज ऐंठन, गर्भावस्था के अन्य लक्षणों में अप्रत्याशित रूप से कमी आदि गर्भपात के प्रमुख संकेत है.

2. समय से पहले जन्म
समय से पहले जन्म 24 से 37वें सप्ताह में होता है. बॉर्न टू सून : वल्र्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की ओर से प्रीटर्म बर्थ पर ग्लोबल एक्शन रिपोर्ट अन्य रिपोटरें के साथ मिलकर कहती है कि भारत में कुल 3,519,100 लोगों का जन्म समयपूर्व होता है, यह कुल जन्म का लगभग 24 प्रतिशत है. जैसा कि डेटा इंगित करता है भारत दुनिया की समयपूर्व डिलीवरी में 60 प्रतिशत योगदान देने वाले 10 देशों की सूची में सबसे ऊपर है. डॉक्टरों और स्त्रीरोग विशेषज्ञ गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था की अवधि के दौरान नियमित चिकित्सा जांच के लिए जाने का सुझाव देते हैं.

Alert: बढ़ रहा है वजन पर महसूस होती है कमजोरी! तो हो सकती है ये बीमारी…

3. प्रीक्लेम्पसिया
20 सप्ताह की गर्भावस्था के बाद महिलाएं उच्च रक्तचाप की समस्या से भी ग्रस्त हो सकती हैं. कभी-कभी महिलाओं के मूत्र में प्रोटीन भी आने लगता है. यह बच्चे के विकास को धीमा कर देता है क्योंकि उच्च रक्तचाप गर्भाशय में रक्त वाहिकाओं के कसने का कारण बन सकता है. सिरदर्द, मतली, सूजन, पेटदर्द और नजर के धुंधले होने जैसे इसके कई लक्षण हैं.

4. मूत्र पथ के संक्रमण
जीवाणु संक्रमण से मूत्र पथ के संक्रमण हो सकते हैं. यह मूत्र पथ को प्रभावित कर सकता है. यूटीआई मूत्रमार्ग, मूत्राशय और यहां तक कि गुर्दे में संक्रमण की ओर ले जाता है. इस स्थिति के साथ आने वाले लक्षणों में जननांग क्षेत्र में जलन, पेशाब करने की इच्छा, पेशाब के दौरान जलन और पीठ में दर्द शामिल हो सकते हैं. अध्ययनों के अनुसार, क्रैनबेरी के नियमित सेवन से यूटीआई को रोका जा सकता है.

5. अपेंडिसाइटिस
गर्भावस्था के दौरान अपेंडिक्स के संक्रमण से गर्भावस्था में सर्जरी की स्थितियां बन जाती हैं. यह शरीर में होने वाले शारीरिक परिवर्तनों के कारण होता है. डॉक्टरों के अनुसार, पहली और दूसरी तिमाही में निदान करना आसान है. निचले हिस्से में दर्द, उल्टी और भूख की कमी जैसे लक्षण हैं.

Tips: बेहद गुणकारी है इस फल का पत्‍ता, तुरंत रोक देता है Hair Fall

6. पित्ताशय की पथरी
अतिरिक्त एस्ट्रोजन के कारण गर्भावस्था के दौरान पित्ताशय की पथरी एक आम समस्या है. लक्षण जो पित्ताशय की पथरी का कारण बन सकते हैं- अधिक वजन, 35 वर्ष से अधिक आयु और परिवार में पथरी का चिकित्सा इतिहास है.

7. एक्टोपिक गर्भावस्था
महिलाओं को पेट में गंभीर दर्द की शिकायत तब भी होती है जब अंडा, गर्भाशय के अलावा किसी अन्य स्थान पर प्रत्यारोपित हो जाता है. एक्टोपिक गर्भावस्था में गर्भावस्था के 6-10वें सप्ताह के बीच दर्द और रक्तस्राव होता है. गर्भाधान के समय अगर एंडोमेट्रियोसिस, ट्यूबल लाइगैशन और गर्भधारण के दौरान इन्ट्रायूटरिन डिवाइस का इस्तेमाल हो तो महिलाएं अधिक जोखिम में होती हैं.

प्रेगनेंसी के दौरान न करें ये काम वरना Newborn Baby के कटे हो सकते हैं होंठ

गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां-
-दर्द होने पर तत्काल आराम करें
-पेट के निचले हिस्से में दर्द होने पर गर्म पानी से स्नान करें
-पीड़ा को कम करने के लिए गर्म वॉटर-बॉटल से सेंकाई करें
-पेट के वायरस और भोजन की विषाक्तता के लिहाज से विशेष सावधानी बरतें
-सुपाच्य भोजन विकल्प
भले ही गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द को निरापद माना जाता हो पर महिलाओं को पेट के दर्द से जुड़े चेतावनी संकेतों पर नजर रखनी चाहिए और अगर परेशानी बढ़ गई है तो बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

प्रेगनेंसी के दौरान न करें ये काम वरना Newborn Baby के कटे हो सकते हैं होंठ



नई दिल्ली: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के नए अध्ययन के मुताबिक गर्भावस्था के शुरुआती कुछ सप्ताह में धूम्रपान, शराब पीने, चूल्हे से निकलने वाले धुएं के बीच सांस लेने या परोक्ष धूम्रपान, ज्यादा दवाएं लेने एवं विकिरण की चपेट में आने और पोषण संबंधी कमियां होने से नवजात के चेहरे में जन्मजात विकृतियां हो सकती हैं. अध्ययन के मुताबिक, इनके कारण होंठ कटे हो सकते हैं या तालू में कोई विकृति हो सकती है.

दिल्ली में हर साल औसतन 50 हजार गर्भपात, प्रसव के दौरान मां की मौत का आंकड़ा भी बढ़ा

कटे हुए होंठों से बच्चे को बोलने और खाना चबाने में दिक्कत आती है. इससे दांत भी बेतरतीब हो जाते हैं, जबड़े से उनका तालमेल बिठाने में दिक्कत पेश आती है और चेहरे की आकृति बिगड़ी नजर आती है. एक अनुमान के मुताबिक, एशिया में प्रति 1,000 या इससे ज्यादा नवजात में से करीब 1.7 फीसदी के होंठ कटे होते हैं या तालू में विकृति होती है. भारत में इससे जुड़े आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन देश के अलग-अलग हिस्से में हुए कई अध्ययन बताते हैं कि होंठ कटे होने के कई मामले सामने आते रहे हैं. अनुमान हैं कि भारत में हर साल करीब 35,000 ऐसे नए मामले सामने आते हैं.

खुशहाल जिंदगी के लिए कितना जरूरी है फिजिकल रिलेशनशिप

तीन चरणों में हुआ अध्‍ययन
एम्स के दंत चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान (सीडीईआर) ने 2010 में इस अध्ययन की शुरुआत की जिसे तीन चरणों – प्री पायलट, पायलट और मल्टी सेंट्रिक में पूरा किया जा रहा है. अभी नई दिल्ली, हैदराबाद, लखनऊ और गुवाहाटी में मल्टी सेंट्रिक चरण चल रहा है. पायलट चरण में दिल्ली के एम्स, सफदरजंग अस्पताल और गुड़गांव के मेदांता मेडिसिटी में यह अध्ययन हुआ.

महिलाओं का दिमाग क्‍यों चलता है तेज, पुरुष क्‍यों रह जाते हैं पीछे, जानिए कारण

विकृति से जूझ रहे मरीजों को इलाज की फौरन जरूरत
इस परियोजना के प्रमुख शोधकर्ता एवं सीडीईआर के प्रमुख ओपी खरबंदा ने कहा कि मकसद यह था कि मरीजों के दस्तावेज इकट्ठा करने की प्रक्रिया में एकरूपता हो. उन्होंने कहा कि इससे खुलासा हुआ कि इस विकृति से जूझ रहे मरीजों को इलाज की तत्काल जरूरत होती है और इसके लिए गुणवत्तापूर्ण देखभाल प्रदान की व्यवस्था में सुधार की रणनीति बनाने की जरूरत है.



Source link

Health: अगर आप धूम्रपान छोड़ने के बारे में सोच रहे हैं तो आया नया तरीका, होगा Double effective



लंदन: अगर आप धूम्रपान छोड़ने के बारे में सोच रहे हैं तो निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की तुलना में इलेक्ट्रोनिक सिगरेट, जिसे आम तौर पर ई-सिगरेट के रूप में जाना जाता है इस लक्ष्य को हासिल करने में आपकी मदद कर सकती है. एक बड़े क्लीनिकल ट्रायल के नतीजों में इस बात का खुलासा हुआ है. न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, ई-सिगरेट निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की तुलना में धूम्रपान करने वालों को धूम्रपान छोड़ने में मदद करने में लगभग दोगुना प्रभावी है.

सर्दियों में ऐसे बनाएं मसाला चाय, इन तकलीफों से रखेगी आपको दूर

ट्रायल में पाया गया कि ई-सिगरेट के 18 फीसदी उपयोगकर्ताओं को एक साल बाद धूम्रपान से निजात मिल गई जबकि निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार अपना रहे केवल 9.9 फीसदी ऐसा कर पाने में कामयाब रहे. इस ट्रायल में 900 स्मोकर शमिल हुए थे, जिन्हें निकोटीन छोड़ने संबंधी अतिरिक्त थेरेपी भी मुहैया कराई गई. क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन में प्रोफेसर व मुख्य शोधकर्ता पीटर हाजेक ने कहा कि धूम्रपान छोड़ने में मदद करने के लिए आधुनिक ई-सिगरेट की क्षमता के परीक्षण का यह पहला ट्रायल है. ई-सिगरेट, निकोटिन प्रतिस्थापन उत्पादों के ‘गोल्ड स्टैंडर्ड’ के संयोजन के रूप में करीब दुगना प्रभावी है.

Health Tips: अखरोट खाने से कम हो सकता है D‍epression का खतरा

ई-सिगरेट की मदद से से छोड़ा धूम्रपान
हाजेक ने कहा कि हालांकि धूम्रपान करने वाले लोगों की बड़ी संख्या ने कहा कि उन्होंने ई-सिगरेट की मदद से सफलतापूर्वक धूम्रपान छोड़ दिया. वहीं स्वास्थ्य पेशेवर नियंत्रित ट्रायल से आए स्पष्ट प्रमाणों की कमी के कारण इसके उपयोग की सिफारिश को लेकर अभी भी असंतुष्ट हैं. अब इसमें बदलाव आ सकता है.

सर्दियों में ज्यादा ठंड लगे तो हो जाएं Alert, आपको है इस बीमारी का खतरा

886 धूम्रपान करने वाले लोगों पर किया रिसर्च
यह नया अध्ययन 886 धूम्रपान करने वाले लोगों पर किया गया, जो ब्रिटेन नेशनल हेल्थ सर्विस स्टॉप स्मोकिंग सेवाओं में शरीक हुए थे. यह अध्ययन निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की रेंज की तुलना में नई रीफिलेबल ई-सिगरेट की दीर्घकालिक प्रभावकारिता के परीक्षण के लिए किया गया था. (इनपुट एजेंसी)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Male Children May Have 50 Per Cent Less Sperm Count Whose Father Smokes, Reveals Study



While studies have repeatedly linked maternal smoking during pregnancy with reduced sperm count in male children, a new research showed that men whose fathers smoked at the time of pregnancy also had 50 per cent lower count of sperms than those with non-smoking fathers.

The findings showed that, independently of nicotine exposure from the mother, socioeconomic factors, and their own smoking, men with fathers who smoked had a 41 per cent lower sperm concentration and 51 per cent fewer sperm count than those with non-smoking fathers.

“I was very surprised that regardless of the mother’s level of exposure to nicotine, the sperm count of men whose fathers smoked was so much lower,” said Jonatan Axelsson, specialist physician at Lund University in Sweden.

“We know there is a link between sperm count and chances of pregnancy, so that could affect the possibility for these men to have children in future.

“The father’s smoking is also linked to a shorter reproductive lifespan in daughters, so the notion that everything depends on whether the mother smokes or not doesn’t seem convincing,” he added.

However, the research has not determined the underlying mechanisms behind this. But, similar studies have shown links between smoking fathers and various health outcomes in children, such as malformations, Axelsson noted.

It could be because most newly occurring mutations (known as de novo mutations) come via the father and there are also links between the father’s age and a number of complex diseases, said researchers in the paper published in the journal PLOS ONE.

In addition, researchers have observed that smoking is linked to DNA damage in sperm and that smokers have more breaks in the DNA strand.

Children of fathers who smoke have been reported to have up to four times as many mutations in a certain repetitive part of the DNA as children of non-smoking fathers.

“Unlike the maternal ovum, the father’s gametes divide continuously throughout life and mutations often occur at the precise moment of cell division.

“We know that tobacco smoke contains many substances that cause mutations so one can imagine that, at the time of conception, the gametes have undergone mutations and thereby pass on genes that result in reduced sperm quality in the male offspring,” Axelsson said.

The study was conducted on 104 Swedish men aged between 17 and 20 years.



Source link

Women Beware! Smoking, Diabetes And Hypertension Can Spike Heart Attack Risk, Says Study



Although men are at greater risk of heart attack than women, unhealthy lifestyles such as smoking, besides diabetes and hypertension increase the risk of heart attack in the fairer sex than in their male counterparts, a new study has found.

The study showed that an elevated risk of heart attack was found among women with high blood pressure, and Type-1 and Type-2 diabetes, but not with a high body mass index (BMI).

“Overall, more men experience heart attacks than women. However, several major risk factors increase the risk in women more than they increase the risk in men, so women with these factors experience a relative disadvantage,” said Elizabeth Millett, epidemiologist from The George Institute in the UK.

Generally heart attack patients experience symptoms of chest pain, shortness of breath, and pain in their arms, back, neck, jaw or stomach. But, women are likely to experience additional symptoms such as unusual tiredness, dizziness, cold sweats, and nausea or vomiting.

For the study, published in the journal The BMJ, the team examined 4,72,000 participants aged 40 to 69. 56 per cent of them were women.

High blood pressure, diabetes and smoking increased the risk of a heart attack in both sexes but their impact was far greater in women.

Smoking increased a woman’s risk of a heart attack by 55 per cent more than it increased the risk in a man, while hypertension increased a woman’s risk of heart attack by an extra 83 per cent relative to its effect in a man.

Type-2 diabetes, which is usually associated with poor diet and other lifestyle factors, had a 47 per cent greater impact on the heart attack risk of a woman relative to a man, while Type-1 diabetes had an almost three times greater impact in a woman.

“These findings highlight the importance of raising awareness around the risk of heart attack women face, and ensuring that women as well as men have access to guideline-based treatments for diabetes and high BP, and to resources to help them stop smoking,” Millett said.



Source link

Health Tips: सावधानी में ही है समझदारी, इन 5 ‘S’ से रहेंगे दूर तो हमेशा स्वस्थ रहेगी Kidney


नई दिल्ली: किडनी से जुड़ी बीमारियां अब आम हो रही हैं. डॉक्टर्स का कहना है कि आधुनिक लाइफस्टाइल इसकी बड़ी वजह है. अगर इनसे बचना है तो खाने-पीने में विशेष सावधानी बरतने की आवश्कयता है.

Alert: बच्चों में तेजी से बढ़ रही है हाई BP की प्रॉब्लम, हैरान कर देंगे आंकड़े, ऐसे करें बचाव…

डायबिटीज (मधुमेह), उच्च रक्तचाप एवं मोटापे की वजह से किडनी (गुर्दा) फेल होने का खतरा बना रहता है. इस बीमारी से बचने के लिए सावधानी सबसे ज्यादा जरूरी है. किडनी को दुरुस्त रखने के लिए चिकित्सक पांच चीजों से बचने की सलाह देते हैं जो कि काफी उपयोगी हैं.

बीएलके सुपरस्पेशियल्टी अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक एवं नेफ्रोलोजी एंड रेनल ट्रांसप्लांटेशन के डायरेक्टर डॉ. सुनील प्रकाश ने कहा ‘अंग्रेजी के एस अक्षर से शुरू होने वाली पांच बातों से किडनी को बचाकर रखने की जरूरत है- साल्ट ( नमक), शुगर (चीनी), स्ट्रेस (तनाव), स्मोकिंग ( सिगरेट बीड़ी पीना) एवं सेडेंटरी लाइफ स्टाइल (बैठे ठाले रहना यानी हमेशा निष्क्रिय रहना)’.

सत्यराज किडनी केयर फाउंडेशन संस्था द्वारा किडनी की चेतना जगाने को लेकर रविवार को आयोजित एक कार्यक्रम में डॉ. प्रकाश ने किडनी पर बढ़ते खतरों को रेखांकित करते हुए आम लोगों के बीच इसको लेकर व्यापक चेतना अभियान चलाए जाने की जरूरत पर बल दिया. उन्होंने कहा कि किडनी फेल होने की स्थिति में डायलिसिस और किडनी प्रत्यारोपण की स्थिति न आए इसलिए यह जरूरी है कि किडनी को लेकर शुरू से ही सावधानी बरती जाए.

भुट्टा खाने के तुरंत बाद नहीं पीना चाहिए पानी, होते हैं ये नुकसान…

उन्होंने कहा कि खराब हो गए गुर्दे के इलाज में इतना खर्च होता है कि यह हर आदमी के बूते की बात नहीं है. इसलिए किडनी को दुरुस्त बनाए रखने में ही समझदारी है.
डा. प्रकाश ने कहा कि किडनी की बीमारी अंतिम चरण में पहुंच जाए यानी वह काम करना बंद कर दे तो डायलिसिस और प्रत्यारोपण जैसे इलाज बेहद महंगे हैं, इसलिए किडनी को रोगों से बचा कर रखना ही सबसे सही रास्ता है.

किडनी को बीमार ही न होने दें. मधुमेह, उच्च रक्तचाप व मोटापे के बढ़ते हुए मामलों पर चिंता प्रकट करते हुए उन्होंने कहा कि आज शरीर की सेहत के लिए बेहद महत्वपूर्ण अंग किडनी के चारों तरफ खतरे मंडरा रहे हैं, इसलिए आम लोगों में किडनी को बीमारियों से बचाने के लिए गहन चेतना अभियान चलाए जाने की जरूरत है.
(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

OMG!! ये खतरनाक अंजाम जानने के बाद आप रातों रात छोड़ देंगे स्मोकिंग..



स्मोकिंग करने वाले लोगों की संख्या में दिन-ब-दिन इजाफा होता जा रहा है. स्कूल और कॉलेज के स्टूडेंट्स भी धड़ल्ले से स्मोकिंग करते हुए देखे जा सकते हैं. कुछ को इसकी लत है तो कुछ इसे फैशन और स्टाइल स्टेटमेंट मानकर इसकी गिरफ्त में आ जाते हैं. हर हफ्ते कम से कम एक घंटे धूम्रपान के संपर्क में रहने से सांस संबंधी जोखिमों का खतरा बढ़ सकता है. इससे किशोरों में सांस संबंधी दिक्कत और सूखी खांसी पैदा हो सकती है.

अमेरिका के सिनसिनाटी विश्वविद्यालय के शोध की प्रमुख लेखक एशले मेरीयानोस ने कहा, “स्मोकिंग करने वालों के संपर्क में आने को लेकर स्मोकिंग से प्रभावित होने से बचने के लिए कोई सुरक्षित स्तर नहीं है.” मेरियानोस ने कहा, “यहां तक कि कम मात्रा में स्मोकिंग के संपर्क में आने पर भी किशोरों को कई बार हॉस्पिटल जाना पड़ सकता है और स्वास्थ समस्याएं हो सकती हैं.

इसमें सिर्फ सांस संबंधी लक्षण नहीं हैं, बल्कि समग्र रूप से स्वास्थ्य में कमी भी शामिल है.” इस शोध का प्रकाशन पिडियाट्रिक्स नामक पत्रिका में किया गया है. इसमें 7,389 धूम्रपान नहीं करने वाले अमेरिकी किशोरों को शामिल किया गया, जिन्हें अस्थमा नहीं था. शोध के निष्कर्षों से पता चला है कि हर हफ्ते एक घंटे धूम्रपान करने वालों के संपर्क में रहने से किशोरों में व्यायाम करने में 1.5 गुना मुश्किल पाई गई, जबकि व्यायाम के दौरान या बाद मेंदोगुना तेज-तेज सांस लेने की समस्या देखी गई.



Source link