अदरक वाली चाय पीने के कई नुकसान भी हैं, ये पढ़ें और संभल जाएं


सर्दी के मौसम में ज्‍यादातर लोग अदरक वाली चाय मांगते हैं. दिन में दो-तीन बार चाय को पीना आम बात है. पर इस चाय के अधिक सेवन से कई तरह की समस्‍याएं हो सकती हैं.

ज्‍यादा अदरक वाली चाय पी तो ये होगा-

– अदरक अगर ज्‍यादा खाया या पीया जाए तो ये एसिडिक हो जाता है. शरीर में एसिड ज्यादा बनने लगता है.

– ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या हो तो अदरक का सेवन सोच-समझकर करना चाहिए. जिनका ब्लडप्रेशर लो रहता है, अगर वे अदरक ज्यादा खाते हैं तो नुकसानदायक हो सकता है.

सर्दी में Brandy-Rum पीने से क्‍या कम लगती है ठंड? जानें क्‍या है सच…

– अदरक से ब्लड शुगर लेवल कम होता है. इसलिए शुगर के मरीजों को इसका सेवन सावधानी से करना चाहिए.

– अदरक का रात की नींद से भी नाता है. अदरक की चाय ज्‍यादा पीने से रात की नींद उड़ जाती है. इसलिए सोने से तुरंत पहले चाय पीने को मना किया जाता है.

– चाय में काफी सारा अदरक डाला गया हो तो ये चाय पीने से सीने में जलन होती है. कुछ लोगों को इससे पेट में जलन की शिकायत भी हो जाती है.

– अदरक की तासीर गर्म होती है. इसलिए गर्भवती महिलाओं के लिए आधे कप से ज्यादा अदरक की चाय पीना ठीक नहीं है.

– आम आदमी के लिए प्रतिदिन 5 ग्राम अदरक लेना पर्याप्त माना जाता है. एक कप चाय में एक चौथाई चम्मच अदरक काफी माना जाता है. गर्भवती महिला को एक दिन में 2.5 ग्राम से अधिक अदरक नहीं खाना चाहिए.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Winter Tips: देसी टॉनिक है गुड़, रोज खाएं सर्दी दूर भगाएं



सर्दियों के मौसम में गुड़ (Jaggery) को देसी टॉनिक कहा जाता है. इसके प्रतिदिन सेवन से बीमारियां दूर रहती हैं. इसके फायदों के बारे में जितनी बात की जाए कम है.

सर्दियों के मौसम में ये अधिक गुणकारी इसलिए है क्‍योंकि इसकी तासीर गर्म होती है. इसके सेवन से शरीर को गर्माहट मिलती है. खाना जल्‍दी पचता है, शरीर को आयरन मिलता है.

Mushroom खाने से शरीर को मिलता है भरपूर पोषण, बेहद फायदेमंद

गुड़ के फायदे-
– सर्दियों में जोड़ों के दर्द की समस्या बढ़ जाती है. गुड़ इस दर्द से राहत दिलाता है. गुड़ को अदरक के साथ खा सकते हैं या एक ग्लास दूध के साथ ले सकते हैं. गठिया रोग के मरीजों को सर्दियों में नियमित रूप से गुड़ खाना चाहिए.
– गले की खराश में गुड़ काफी फायदेमंद है. गुड़ को अदरक के साथ गर्म करके खाने से गले की खराश दूर होती है.
– खाने के बाद एक छोटा टुकड़ा गुड़ खाने से पाचन संबंधी समस्‍याएं खत्‍म होती हैं. इसे खाने से पेट में गैस नहीं बनती और ना ही कब्ज की शिकायत रहती है.

खजूर से बढ़ती है सेक्‍स पॉवर, इन बीमारियों में असरदार, रोज खाएं…

– पीरिड्स के दौरान अक्सर महिलाओं को दर्द होता है. गुड़ इस दर्द और चिड़चिड़ेपन से दूर रखता है. पीरियड्स के दौरान दिन में 3-4 बार थोड़ा थोड़ा गुड़ खाना चाहिए.
– ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए गुड़ खाना बहुत लाभकारी है. गुड़ में सोडियम और पोटेशियम होता है. ये शरीर में एसिड की मात्रा को कंट्रोल करने में सहायक है. इस कारण ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित रहता है.
– गुड़, लीवर को स्वस्थ बनाता है. हमारे खून से हानिकारक टॉक्सिन को बाहर निकालता है और शरीर में रक्त प्रवाह बेहतर बनाता है. अगर आपका लीवर कमजोर है, आपको लीवर की कोई न कोई समस्या रहती है तो रोज गुड़ खाना चाहिए.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Winter Tips: सर्दी में कई रोगों का इलाज है गुणकारी तुलसी, जानें फायदे



सर्दी के मौसम में जुकाम, खांसी, बुखार के मामलों में बेतहाशा वृद्धि होती है. ऐसे में एक देसी पौधा ‘रामबाण’ साबित होता है. इसके बारे में आयुर्वेद में भी बताया गया है.

ये है तुलसी. तुलसी ऐसा पौधा है, जो भारत में लगभग हर दूसरे घर में होता है. खासकर हिंदू संस्कृति को मानने वाले परिवारों में तो तुलसी के पौधे का खास महत्व है. क्योंकि हिंदु संस्कृति में यह पौधा पूजनीय माना गया है.

इसका औषधीय महत्व भी है. तुलसी के पौधे को स्वास्थ्य के लिहाज से काफी फायदेमंद माना गया है. वैसे तो तुलसी के कई गुणों के बारे में हम सभी जानते हैं, लेकिन कई ऐसे भी गुण हैं जिनके बारे में जानना चाहिए. तो चलिए बताते हैं आपको तुलसी के कुछ अनजाने फायदों के बारे में.

Winter Tips: कड़कड़ाती सर्दी में पीएं लौंग वाली चाय, होंगे 7 बेमिसाल फायदे…

– तेज बुखार के मामले में, तुलसी की पत्तियों के आधा लीटर पानी में इलाइची पाउडर, दूध और चीनी मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से शरीर का तापमान कम होता है. कोमल तुलसी की पत्तियों को पानी में उबालकर पीने से मलेरिया और डेंगू बुखार में फायदा होता है. तुलसी में एंटी-बैक्टीरियल गुण हैं जो सभी प्रकार के वायरल इंफेक्शन से शरीर की रक्षा करते हैं.

– तुलसी, नाक, श्वास नली और फेफ़डों में जमा कफ को निकालने में मदद करती है जिससे अस्थमा के अटैक व सर्दी, जुकाम तथा फेफ़डों के रोगों से बचाव होता है. इन्फ्लूएंजा, गले में खराश होने पर लौंग, नमक और तुलसी के पत्तों के साथ पानी उबलाकर पीने से आराम मिलता है.

– तुलसी पूरे दिन की थकान को झट से दूर कर देती है. अगर आप तनाव से परेशान हैं तो रोजाना रात को दूध में कुछ पत्ते तुलसी के डालकर उबाल लें और फिर इस दूध को पीएं. यह नर्वस सिस्टम को आराम पहुंचाता है और तनाव कम करता है.

– तुलसी में भरपूर मात्रा में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लिमेंट्री गुण होते हैं, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं. रोजाना इसके सेवन से फ्लू का खतरा भी दूर होता है.

Winter Tips: आयुर्वेद में रामबाण बताई गई हैं ये देसी चीजें, सर्दियों में रोज खाएं…

– महिलाओं में पीरियड्स के दौरान कई तरह की समस्याएं होती हैं. इसकी वजह से वे बहुत परेशान रहती हैं. ऐसे में तुलसी के बीज का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है. पीरियड्स में अनियमितता को दूर करने के लिए तुलसी के पत्तों का नियमित सेवन करना चाहिए.

– तुलसी का काढ़ा सर्दी और जुकाम में बहुत कारगर होता है. काढ़ा बनाने के लिए तुलसी पत्ते को पानी में डालकर उसमें काली मिर्च और मिश्री मिलाकर अच्छे से मिला लें और उसका सेवन करें. यह सर्दी में बहुत कारगर होता है.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Winter Tips: सर्दियों में धूप सेंकना क्‍यों जरूरी, किस समय की धूप सबसे बेहतर…



सर्दियों के मौसम (winter season) में धूप सेंकना शरीर के लिए बेहद आवश्‍यक है. चूंकि इस मौसम में धूप काफी हल्‍की या कम होती है, इसलिए इसका महत्‍व और बढ़ जाता है.

क्‍या कहते हैं डॉक्‍टर्स
डॉक्‍टर्स कहते हैं कि शरीर स्‍वस्‍थ रहे इसके लिए जरूरी है कि हड्डियां भी मजबूत रहें. चूंकि महानगरों में रहने वाले लोगों में अब विटामिन डी की कमी आम बात हो गई है, ऐसे में सर्दियों के मौसम में इसका ख्‍याल रखना और आवश्‍यक हो जाता है.

Winter Tips: कड़कड़ाती सर्दी में पीएं लौंग वाली चाय, होंगे 7 बेमिसाल फायदे…

सर्दियों की धूप
सर्दियों में धूप सेंकने पर कई शोध हुए हैं. इनमें कहा गया है कि ये धूप शरीर के लिए बेहद फायदेमंद है. पर धूप में खड़े होने से विटामिन डी शरीर का खुला हिस्‍सा सोखता है. यानी बिना ढका हाथ और पैर आदि. अमूमन ये आपके शरीर का 20 प्रतिशत हिस्‍सा ही होता है.

जाड़े में हर रोज 15 मिनट धूप का सेवन करने से विटामिन-डी अच्छी मात्रा में लिया जा सकता है. सुबह 10 से दोपहर 3 बजे के बीच के दौरान धूप का सेवन मानव शरीर की त्वचा को विटामिन-डी प्रदान करता है.

Winter Tips: आयुर्वेद में रामबाण बताई गई हैं ये देसी चीजें, सर्दियों में रोज खाएं…

महिलाओं के लिए ये धूप काफी जरूरी है क्‍योंकि 40 की उम्र के बाद उनमें ऑस्टियोपोरोसिस और ऑस्टियोमलेशिया होने की संभावना होती है. बच्चों में भी विटामिन डी की कमी से रिकेट्स की समस्या होने लगती है. इसलिए बच्चों को शुरुआत में ही पर्याप्त आहार के साथ-साथ अच्छी धूप का सेवन कराना आवश्यक है.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Winter Tips: कड़कड़ाती सर्दी में पीएं लौंग वाली चाय, होंगे 7 बेमिसाल फायदे…


कड़कड़ाती सर्दी में शरीर सबसे पहले सर्दी-जुकाम की चपेट में आता है. चूंकि इस मौसम में इम्‍युनिटी लेवल कम हो जाता है इसलिए जरूरी है कि कुछ ऐसा खाया-पीया जाए जिससे शरीर को गर्माहट मिले.

गर्म चीजों का नाम आते ही सर्दी में चाय की याद आ जाती है. लोग अदरक, इलायची वाली चाय तो खूब पीते हैं पर लौंग वाली चाय पीने के अपने ही फायदे हैं.

चूंकि लौंग तासीर में गर्म होती है इसलिए इस मौसम में लौंग वाली चाय पीना काफी लाभदायक माना जाता है. जानें ऐसे ही फायदों के बारे में-

Winter Tips: आयुर्वेद में रामबाण बताई गई हैं ये देसी चीजें, सर्दियों में रोज खाएं…

– लौंग की तासीर गर्म होती है, इसलि‍ए ठंड में दिन में 2-3 बार पीने पर जुकाम से बचाव होता है.

– साइनस से पीड़ित हैं तो गर्मागर्म लौंग की चाय पीएं. इसे सुबह के समय पीना ज्यादा फायदेमंद है. लौंग में पाया जाने वाला इजेनॉल बलगम दूर करता है और शरीर को गर्मी प्रदान करता है, जिससे साइनस से राहत मिलती है.

– अगर आपको बुखार है तो लौंग की चाय काफी फायदेमंद है. इसके सेवन से बुखार टूटता है.

– अक्‍सर लोगों को सर्दियों में जोड़ों में दर्द की शिकायत हो जाती है. मांसपेशि‍यों में होने वाले दर्द से निजात पाना चाहते हैं तो लौंग की चाय पीएं.

Alert: बढ़ती ठंड मौत की चेतावनी भी है! हल्‍के में ना लें…

– अगर आपको एसिडि‍टी हो रही है तो लौंग की चाय पीना फायदेमंद है.

– दांत दर्द में ये रामबाण की तरह काम करती है.

– लौंग में पाया जाने वाला एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण आंतों के कीटाणुओं को खत्म कर देता है जिससे पेट दर्द और पेट से जुड़े अन्य समस्याओं में आराम मिलता है.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Winter Tips: आयुर्वेद में रामबाण बताई गई हैं ये देसी चीजें, सर्दियों में रोज खाएं…



सर्दियों के मौसम में इम्‍युनिटी लेवल को बनाए रखने के लिए कई देसी चीजें फायदेमंद बताई गई हैं. इनका जिक्र आयुर्वेद में किया गया है. कहा जाता है कि इनके सेवन से शरीर चुस्‍त-दुरुस्‍त रहता है.

ठंड बढ़ते ही सर्दी, खांसी, बुखार जैसी बीमारियों में बढ़ोतरी हो जाती है. चिकित्सकों का मानना है कि इस मौसम में ठंड से बचने के लिए हम गर्म कपड़े तो पहन लेते हैं, मगर ठंड के असर से बचने के लिए शरीर का बाहर के साथ-साथ अंदर से भी गरम रहना जरूरी है.

इसलिए हम आपको ऐसी देसी चीजों के बारे में बता रहे हैं जो शरीर को गर्म रखती हैं साथ ही ताकत भी देती हैं.

– ठंड में लौंग, तुलसी, काली मिर्च और अदरक का सेवन करना चाहिए. आप इन्‍हें चाय में डालकर भी पी सकते हैं. खांसी, सर्दी, जुकाम के लिए ‘रामबाण’ का काम करती है.

– सर्दियों में शहद का सेवन करने से शरीर को कई तरह की रोगों से दूर रखा जा सकता है. आयुर्वेद में शहद को अमृत माना गया है. सर्दी, जुकाम होने पर रात को सोने से पहले एक ग्लास गुनगुने दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से यह खत्म हो जाती है.

Alert: बढ़ती ठंड मौत की चेतावनी भी है! हल्‍के में ना लें…

– सर्दी के दिनों में बाजरे की रोटी खाने का बहुत फायदा मिलता है. यह शरीर को तो गर्म रखती ही है, साथ में बाजरे की रोटी में प्रोटीन, विटामिन बी, कैल्शियम, फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट शरीर के लिए अच्छे होते हैं. ठंड से बचने के लिए बच्चों को भी बाजरे की रोटी खिलानी चाहिए.

– खाने में अदरक के प्रयोग से शरीर तो गर्म होता ही है, साथ में पाचन क्रिया भी अच्छी होती है

– आवंला की तुलना अमृत से की गई है. आंवला में विटामिन सी, विटामिन एबी, पोटेशियम, कैलशियम, मैग्नीशियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और डाययूरेटिक एसिड होते हैं. आंवला और मूंगफली सर्दियों में फायदेमंद होते हैं.

– खजूर को गर्म दूध के साथ खाने पर भी सर्दी से राहत मिलती है.

– अक्सर हम लोग सौंफ तब खाते हैं जब पाचन से संबंधित कोई परेशानी होती है. पर इस मौसम में सौंफ खाने की सलाह दी जाती है. सौंफ सर्दी में खाने को हजम करने की शक्ति देती है. इसके लिए आप खाने के बाद सौंफ चबा सकते हैं, खाना बनाते हुए उसमें सौंफ का पाउडर डाल सकते हैं या फिर सौंफ का काढ़ा बनाकर पी सकते हैं.

– इस मौसम में तापमान कम होने से स्किन रिलेटिड समस्याएं होती हैं. त्वचा में रूखापन होता है. इसे दूर करने के लिए ऐलोवेरा लगाएं. फ्रेश निकालकर लगाएंगे तो बेहतर रहेगा. इसके अलावा ऐलोवेरा का मॉस्चराइजर या जेल लगा सकते हैं. ऐलोवेरा जूस पीने से इन समस्याओं से छुटकारा मिलता है.

– अगर आप सर्दी के मौसम में मूंगफली खाएंगे तो शरीर गर्म रहेगा. भोजन के अगर 50 या 100 ग्राम मूंगफली हर रोज खाते हैं तो इससे सेहत बनती है, खून की कमी पूरी होती है.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Alert: बढ़ती ठंड मौत की चेतावनी भी है! हल्‍के में ना लें…



ठंड का मौसम (winter season) भला किसे अच्‍छा नहीं लगता. इस मौसम में खूब सारे ऊनी कपड़े, चाय, तला भोजन लोग पसंद करते हैं. गुनगुनी धूप सेंकना का तो मजा ही अलग है. मगर यही वो मौसम भी है जब स्‍ट्रोक और हार्ट अटैक के मामलों में काफी बढ़त दर्ज की जाती है. हर साल ऐसे मामले बढ़ते हैं. डॉक्‍टर्स लोगों को सचेत रहने की हिदायत देते हैं. इस बार भी हाल ऐसा ही है.

क्‍या है खतरा
डॉक्‍टर्स कहते हैं कि ठंड के मौसम में उनके पास आने वाले ब्रेन स्ट्रोक और हार्ट अटैक के मरीजों की संख्‍या तीन गुना तक बढ़ जाती है. ऐसा बढ़ती ठंड की वजह से होता है.

Winter Tips: ठंड में खाएं ये 7 चीजें, कई गुना बढ़ जाएगी इम्‍युनिटी, नहीं होगा सर्दी-जुकाम

कैसे ठंड खतरा बन जाती है
दरअसल, सर्दियों में शरीर का रक्तचाप बढ़ता है जिसके कारण रक्त धमनियों में क्लॉटिंग होने से स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है. ब्रेन स्ट्रोक की प्रमुख वजह रक्तचाप है. रक्तचाप अधिक होने पर मस्तिष्क की धमनी या तो फट सकती है या उसमें रुकावट पैदा हो सकती है.

क्‍या करें
ठंड के मौसम में रक्त गाढ़ा हो जाता है. रक्त की पतली नलिकाएं संकरी हो जाती हैं. रक्त का दबाव बढ़ जाता है. अधिक ठंड पड़ने या ठंडे मौसम के अधिक समय तक रहने पर खासकर उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों में स्थिति गंभीर हो जाती है. सर्दियों में लोग कम पानी पीते हैं जिसके कारण रक्त गाढ़ा हो जाता है. डॉक्‍टर सर्दियों में अधिक पानी और तरल पदार्थ पीने की सलाह देते हैं.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

Winter Tips: ठंड में खाएं ये 7 चीजें, कई गुना बढ़ जाएगी इम्‍युनिटी, नहीं होगा सर्दी-जुकाम



सर्दी के मौसम (winter season) में अक्‍सर लोग सर्दी-जुकाम से परेशान हो जाते हैं. बहती नाक और सीने में जकड़न कुछ काम नहीं करने देती.

ऐसे में खानपान में कुछ खास चीजों को शामिल करने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में काफी सुधार होता है. इन चीजों की तासीर गर्म होती है जिससे शरीर में गर्माहट भी बनी रहती है.

ठंड में खाएं ये चीजें-
– तुलसी, लौंग, अदरक और काली मिर्च का सेवन करें. दूध या चाय में इन्‍हें ले सकते हैं.

Tips: ठंड बढ़ने पर ऐसे करें अपने स्वास्थ्य की देखभाल, दूर रहेगी हर बीमारी

– खजूर की तासीर गर्म होती है. गर्म दूध के साथ इसे खाएं. ये ना केवल बच्‍चों बल्कि हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होता है. खजूर का हलवा भी बना सकते हैं.

– पीपली, काली मिर्च, सौंठ और मुलैठी का चूर्ण बनाकर शहद के साथ लेना अच्छा रहता है.

– देसी घी खाएं. रोज 15 ग्राम घी का सेवन शरीर को गर्म रखता है. गर्माहट के साथ-साथ यह स्किन को ड्राय होने से बचाता है.

– हल्दी वाला दूध लें. हल्‍दी की एंटीबायोटिक्स प्रॉपर्टीज और दूध में मौजूद कैल्शियम, ठंड से बचाते हैं. इससे अच्‍छी नींद आती है, पीरियड्स का दर्द कम होता है, सर्दी-खांसी दूर रहती है.

– गुड़ का सेवन करें. कई विटामिन्स, मिनरल्स जैसे फॉस्फोरस, आइरन, मैग्निशियम और पोटेशियम से भरपूर गुड़ माइग्रेन, अस्थमा, थकान और बदहजमी में लाभकारक है. कफ की परेशानी हो तो गुड़ को अदरक के साथ खाएं.

– मेवे खाएं. खास तौर पर बादाम, पिस्ता, अखरोट खाएं. इससे ज्‍यादा गर्म कुछ नहीं होता. इसीलिए 5 से 6 की मात्रा में रोज लें. सुबह नाश्ते में भी ले सकते हैं.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 



Source link

इंदौर में स्वाइन फ्लू से दो महीने में 18 लोगों की मौत, जानिए इसके लक्षण व बचाव



इंदौर: स्वाइन फ्लू अब घातक बीमारी बनती जा रही है, आलम यह है कि रोजाना कई मामले स्वाइन फ्लू के सामने आ रहे हैं. इसके चलते इंदौर में बीते दो महीने में स्थानीय अस्पतालों में दम तोड़ने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 18 पर पहुंच गयी है. ऐसे में स्वाइन फ्लू के लक्षण और बचाव के बारे में जानना जरूरी है.

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि 39 वर्षीय महिला ने शहर के एक निजी अस्पताल में बुधवार को दम तोड़ दिया. लेकिन उसके स्वाब नमूने की प्रयोगशाला जांच रिपोर्ट आज आयी, जिसमें तसदीक हुई कि उसे एच1एन1 संक्रमण था. अधिकारी ने बताया कि एक जनवरी से अब तक स्थानीय अस्पतालों के 62 मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है. घातक बीमारी की जद में आये 18 लोगों की मौत हो चुकी है. मरने वालों में आस-पास के जिलों से इलाज के लिये इंदौर भेजे गये चार मरीज शामिल हैं.

स्वाइन फ्लू के लक्षण
– स्वाइन फ्लू एक तीव्र संक्रामक रोग है, जो एक विशिष्ट प्रकार के एंफ्लुएंजा वाइरस (एच-1 एन-1) के द्वारा होता है.
– प्रभावित व्यक्ति में सामान्य मौसमी सर्दी-जुकाम जैसे ही लक्षण होते हैं, जैसे –
– नाक से पानी बहना या नाक बंद हो जाना.
– गले में खराश.
– सर्दी-खांसी.
– बुखार.
– सिरदर्द, शरीर दर्द, थकान, ठंड लगना, पेटदर्द.
– कभी-कभी दस्त उल्टी आना.
– कम उम्र के व्यक्तियों, छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं को यह तीव्र रूप से प्रभावित करता है.
– इसका संक्रमण रोगी व्यक्ति के खांसने, छींकने आदि से निकली हुई द्रव की बूंदों से होता है. रोगी व्यक्ति मुंह या नाक पर हाथ रखने के पश्चात जिस भी वस्तु को छूता है, पुन: उस संक्रमित वस्तु को स्वस्थ व्यक्ति द्वारा छूने से रोग का संक्रमण हो जाता है.
– संक्रमित होने के पश्चात 1 से 7 दिन के अंदर लक्षण उत्पन्न हो जाते हैं.

ऐसे करें बचाव
1. खांसी, जुकाम, बुखार के रोगी दूर रहें.
2. आंख, नाक, मुंह को छूने के बाद किसी अन्य वस्तु को न छुएं व हाथों को साबुन/ एंटीसेप्टिक द्रव से धोकर साफ करें.
3. खांसते, छींकते समय मुंह व नाक पर कपड़ा रखें.
4. सहज एवं तनावमुक्त रहिए. तनाव से रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता कम हो जाती है जिससे संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है.
5. स्टार्च (आलू, चावल आदि) तथा शर्करायुक्त पदार्थों का सेवन कम करिए. इस प्रकार के पदार्थों का अधिक सेवन करने से शरीर में रोगों से लड़ने वाली विशिष्ट कोशिकाओं (न्यूट्रोफिल्स) की सक्रियता कम हो जाती है.
6. दही का सेवन नहीं करें, छाछ ले सकते हैं. खूब उबला हुआ पानी पीयें व पोषक भोजन व फलों का उपयोग करें.
7. सर्दी-जुकाम, बुखार होने पर भीड़भाड़ से बचें एवं घर पर ही रहकर आराम करते हुए उचित (लगभग 7-9 घंटे) नींद लें.



Source link

Health Tips: अखरोट खाने से कम हो सकता है D‍epression का खतरा



लॉस एंजिलिस: अमेरिका में किए गए एक अध्ययन के मुताबिक अखरोट खाने से अवसाद का खतरा कम हो जाता है और एकाग्रता का स्तर बेहतर होता है. कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोधार्थियों ने अखरोट खाने वाले लोगों में अवसाद का स्तर 26 प्रतिशत कम, जबकि इस तरह की अन्य चीजें खाने वालों में अवसाद का स्तर आठ प्रतिशत कम पाया है.

सर्दियों में ज्यादा ठंड लगे तो हो जाएं Alert, आपको है इस बीमारी का खतरा

यह अध्ययन न्यूट्रेंट जर्नल में प्रकाशित किया गया है. अध्ययन में पाया गया है कि अखरोट खाना शरीर में ऊर्जा में वृद्धि और बेहतर एकाग्रता से संबद्ध है. विश्वविद्यालय के प्रमुख शोधार्थी लेनोर अरब ने एक अध्ययन का हवाला देते हुए बताया कि अध्ययन में शामिल किए गए छह में से हर एक वयस्क जीवन में एक समय पर अवसाद ग्रस्त होगा . इससे बचने के लिए किफायती उपायों की जरूरत है जैसे कि खान – पान में बदलाव करना.

Health: जल्द इलाज से ठीक हो सकता है कुष्ठ रोग, देर करने पर शारीरिक अपंगता का खतरा

अध्ययन में इतने लोग हुए शामिल
अरब ने बताया कि अखरोट पर शोध पहले हृदय रोगों के संबंध में किया गया है और अब इसे अवसाद के लक्षण से संबद्ध कर देखा जा रहा है. इस अध्ययन में 26,000 से अधिक अमेरिकी वयस्कों को शामिल किया गया.

सर्दियों में ऐसे बनाएं मसाला चाय, इन तकलीफों से रखेगी आपको दूर



Source link